स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पुलिस कस्टडी में लूट के आरोपी युवक की मौत, एसपी के आदेश पर पुलिस और क्राइम ब्रांच पर केस दर्ज

Karishma Lalwani

Publish: Oct 29, 2019 16:32 PM | Updated: Oct 30, 2019 19:40 PM

Amethi

- लूट के आरोप में अमेठी पुलिस ने किया युवक को गिरफ्तार

- परिजनों का आरोप थर्ड डिग्री टार्चर से युवक की बिगड़ी तबियत

- युवक की मौत पर परिजनों ने किया हंमागा

- आरोपितों के खिलाफ धारा 302, 392, 452 और 504 के तहत केस दर्ज

अमेठी. जिले में पांच अक्टूबर को पीपरपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत यूको बैंक मैनेजर से हुई 26 लाख की लूट के मामले में पकड़े गए आरोपी की पुलिस अभिरक्षा में मौत हो गई। परिजनों का आरोप है युवक की मौत पुलिस की थर्ड डिग्री टार्चर से हुई। उनका आरोप है कि पुलिस युवक को छोड़ने के एवज में पैसों की मांग कर रही थी जबकि पुलिस बैकफुट पर है। मृतक की हालत गंभीर होने पर उसे सुलतानपुर जिला अस्पताल भर्ती किया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

यह है मामला

गत पांच अक्टूबर को पीपरथाना क्षेत्र के अंतर्गत यूको बैंक मैनेजर से अज्ञात बदमाशों ने दनदहाड़े असलहे के दम पर 26 लाख रुपयों की लूट की थी। आरोपियों की पकड़ के लिए स्वाट विंग अमेठी व आसपास के जिलों में सर्च अभियान चला रही थी। इसी कड़ी में पुलिस ने प्रतापगढ़ के अंतू थाना क्षेत्र निवासी सत्य प्रकाश शुक्ला को शक के आधार पर गिरफ्तार किया। मंगलवार सुबह ही सत्य प्रकाश को उसके दो पुत्रों के साथ पुलिस ने गिरफ्तार किया था। पूछताछ के दौरान कुछ घंटों बाद ही सत्य प्रकाश की तबियत बिगड़ने लगी। इलाज के लिए उसे नजदीकी सीएससी लाया गया जहां चिकित्सकों ने उसकी हालत गंभीर देखते हुए उसे सुलतानपुर जिला अस्पताल रेफर किया। यहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

मृतक के परिजन सत्य प्रकाश शुक्ला का आरोप है कि अमेठी पुलिस रात दो बजे सत्य प्रकाश शुक्ला को गिरफ्तार कर ले गई। उसके साथ उसके बेटे को भी गिरफ्तार किया। आरोप है कि पुलिस सभी को छोड़ने की एवज में पैसों की मांग कर रही थी। उनकी मांगे पूरी नहीं हुई तो उन्होंने सत्य प्रकाश को टार्चर किया जिससे उसकी हालत गंभीर हो गई। बाद में सुलतानपुर जिला अस्पताल रेफर कराए जाने के बाद डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।

परिजनों ने पुलिस द्वारा थर्ड डिग्री दिए जाने का आरोप लगाते हुए पोस्टमार्टम हाउस सुल्तानपुर के बाहर बवाल शुरू कर दिया। मौके पर स्थानीय नेताओं व अन्य लोगों की भी भारी भीड़ जमा हो गई। इस संबंध में पुलिस अधीक्षक डॉ ख्याति गर्ग ने बताया कि यूको बैंक सत्य प्रकाश के घर में ही चलता था।बैंक लूट मामले की जांच पड़ताल में उसके द्वारा मुखबिरी किए जाने की बात प्रकाश में आई थी। शक के आधार पर मंगलवार की सुबह उसे और उसके दो पुत्रों को पुलिस पूछताछ के लिए थाने लाई थी। जहां उसकी तबीयत खराब होने पर सीएचसी भादर ले जाया गया। हमें उससे काफी क्लू भी प्राप्त हुए हैं हम जल्द ही घटना का वर्कआउट करेंगे।

जहरीला पदार्थ खाने की बात आई सामने

पुलिस अधीक्षक ने पुलिस कस्टीडी में हुई मौत का खंडन करते हुए कहा कि पांच अक्टूबर को हउई लूट के अनावरण में सत्य प्रकाश शुक्ला का नाम प्रकाश में आया था। इनका एक साथी है जाकिर अली उर्फ गुड्डू। उनके साथ 2008 मे गोमतीनगर थाने से टवेरा वाहन की चोरी में चार्जशीट दाखिल हुई थी और गैंग चार्ज भी हुआ था। इनके आपराधिक इतिहास और घटना में संलिप्तता को देखते हुए पुलिस घर पर गयी और पूछताछ के लिए दोनों बेटों के साथ थाने ले गई। पुलिस ने उनसे पूछताछ की। पूछताछ के कुछ घंटों बाद ही सत्य प्रकाश की तबियत बिगड़ने लगी जिसपर उसे सीएचसी भादर ले जाया गया। वहां से चिकित्सकों ने जहरीला पदार्थ खाए होने की बात कहकर जिला अस्पताल रेफर कर दिया। जहां उसकी मृत्यु हो गई है। उसने अपने पुत्रों से जहरीला पदार्थ खाने की बात भी स्वीकारी थी। यह कस्टोडियन डेथ का मामला नहीं है। उन्होंने बताया कि उन्हें काफी क्लू मिले हैं और जल्द ही घटना पर वर्कआउट करेंगे।

मुकदमा दर्ज

मृतक के परिजनों की डिमांड है कि जब तक पुलिस पर हत्या के आरोप में मुकदमा दर्ज नहीं किया जाएगा तबतक वे पोस्टमार्टम नहीं कराएंगे। इसके बाद पीपरपुर पुलिस और क्राइम ब्रांच पर सुलतानपुर नगर कोतवाली में 15 पुलिसकर्मियों पर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है। आरोपितों के खिलाफ धारा 302, 392, 452 और 504 के तहत केस दर्ज किया गया है। हालांकि, अमेठी एसपी ने पुलिस कस्टडी में मौत के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है।

ये भी पढ़ें: अमेठी में बड़ा विवाद, दिवाली पर जाम देखकर सड़क पर फेंका दुकान का सामान, इसके बाद किया ऐसा काम, देखें वीडियो

[MORE_ADVERTISE1]
[MORE_ADVERTISE2]