स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पुलिस कस्टडी में हुई सत्य प्रकाश की मौत मामले में बड़ा खुलासा, एक झटके में पलटा पूरा मामला, मचा हड़कंप

Akansha Singh

Publish: Oct 31, 2019 10:05 AM | Updated: Oct 31, 2019 10:05 AM

Amethi

पुलिस कस्टडी में व्यवसायी सत्य प्रकाश शुक्ला का बुधवार शाम अंतू में अंतिम संस्कार हुआ।

अमेठी. पुलिस कस्टडी में व्यवसायी सत्य प्रकाश शुक्ला का बुधवार शाम अंतू में अंतिम संस्कार हुआ। इसी बीच अमेठी पुलिस ने सत्य प्रकाश को ही 26 लाख की लूट का मास्टर माइंड बताते हुए मामले का खुलासा कर दिया। पुलिस के अनुसार लूट की साजिश खुद सत्य प्रकाश शुक्ल उर्फ साजन ने अपने मित्र जाकिर अली उर्फ गुड्डू के साथ मिलकर रची थी। मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर पुलिस ने उनके पास से 3.5 लाख रुपये, एक तमंचा व एक बाइक बरामद करने का दावा किया है।

एसपी ने बताया कि लूटकांड की साजिश सत्य प्रकाश ने अपने मित्र जाकिर अली उर्फ गुड्डू निवासी धुलियापुर थाना कोतवाली नगर जिला प्रतापगढ़ के साथ मिलकर रची थी। प्रतापगढ़ जिले के मांधाता थाने के गांव रामपुर परुवा निवासी मो. अनीस व इसी थाने के मदईपुर निवासी साजिद अली ने (दोनों जाकिर के रिश्तेदार) जाकिर के साथ मिलकर रेकी की थी। घटना को सराय महासिन थाना जेठवारा जिला प्रतापगढ़ के नदीम और इसी जिले के कंधई थाने के पूरे देवजानी निवासी शहबाज उर्फ लंबू ने अपने एक अज्ञात मित्र के साथ मिलकर अंजाम दिया था। एसपी ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने साजिश रचने वाले जाकिर व उसके दोनों रिश्तेदारों को बुधवार दोपहर बाद पीपरपुर थाने के आलमपुर रेलवे क्रॉसिंग के पास से गिरफ्तार किया। पकड़े गए अभियुक्तों के पास से 3.5 लाख रुपये, एक अदद तमंचा व रेकी में प्रयुक्त एक बाइक बरामद हुई है।

एसपी ने किया खुलासा
एसपी ने बताया कि सत्य प्रकाश शुक्ल वर्ष 2008 में एक एसयूवी चोरी के मामले में जाकिर के साथ जेल गया था। उस मामले में जाकिर ने सत्य प्रकाश को बचाने की हर संभव कोशिश की थी। तभी से वह सत्य प्रकाश का करीबी मित्र हो गया था। सत्य प्रकाश काफी दिनों से बड़ी घटना करने की फिराक में था जिसे गुड्डू की मदद से अंजाम दिया गया। एसपी का कहना था कि मामले का खुलासा करने में इस वजह से भी विलंब हुआ कि आरोपी सीधे सत्य प्रकाश के संपर्क में नहीं थे। सत्य प्रकाश व गुड्डू भी मोबाइल पर बात नहीं करते थे। इन लोगों लूट को अंजाम देने वालों की गुड्डू से बात होती भी थी तो व्हाट्स एप कॉल पर।

एसपी के अनुसार लूट के 26 लाख रुपये में से जाकिर को 2.5 लाख, अनीस व साजिद को डेढ़-डेढ़ लाख, नदीम व शहबाज को छह-छह लाख व अज्ञात लुटेरे को 5.5 लाख रुपये मिले थे। घटना के मास्टर माइंड सत्य प्रकाश को तीन लाख रुपये मिले थे। एसपी अमेठी ने मीडिया से कहा कि सत्य प्रकाश प्रतिष्ठित परिवार से था। लूट कांड में फंसने की वजह से उसके परिवार की छवि धूमिल हो रही थी। लोक लाज के चलते उसने जहर खाया। घटना का खुलासा शाम पांच बजे तब हुआ जब प्रतापगढ़ जिला प्रशासन के हस्तक्षेप पर सत्य प्रकाश के परिवारीजनों ने उसकी अंत्येष्टि कर दी। एसपी का कहना था कि भादर यूको बैंक के शाखा प्रबंधक की ओर से बाबूगंज की यूको बैंक के शाखा प्रबंधक से लाखों रुपया कैश मांगने की जानकारी सत्य प्रकाश को थी। उसे यह जानकारी कैसे मिली इसके जवाब में एसपी ने कहा कि इस सवाल का जवाब सत्य प्रकाश ही दे सकता था।

[MORE_ADVERTISE1]