स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अमेठी डीएम की इस अनोखी पहल से किसानों के चेहरे खिलखिलाए

Mahendra Pratap Singh

Publish: Dec 12, 2019 18:24 PM | Updated: Dec 12, 2019 18:24 PM

Amethi

पराली के निस्तारण को लेकर अमेठी डीएम अरूण कुमार की एक अनोखी पहल से किसानों के चेहरे खिल उठे।

अमेठी . पराली के निस्तारण को लेकर अमेठी डीएम अरूण कुमार की एक अनोखी पहल से किसानों के चेहरे खिल उठे। अमेठी डीएम ने पराली को जिले में चल रहे हैं गौ-संरक्षण केंद्रों पर पहुंचान की व्यवस्था की।

बढ़ते प्रदूषण से खेतों में पराली जलाने को लेकर सरकार सख़्त है। कार्यवाही से किसानों से लेकर समूचा विपक्ष नाराज है। स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र में डीएम अरुण कुमार ने निर्देश दिया है कि किसानों के खेतों से फसलों के अवशेष इकट्ठा करके इसे जिले में संचालित 31 अस्थाई गौसरक्षण केन्द्रों तक पहुंचाया जाए।

31 अस्थाई गौ-संरक्षण केन्द्रो तक पहुंचाई जाएगी पराली :-

मुख्य विकास अधिकारी (सीडीओ) प्रभुनाथ ने ब्रीफ करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश के बाद प्रदूषण से बचने के लिए प्रत्येक जिले में पराली न जलाने को लेकर टीम गठित की गई थी। इस क्रम में पराली जलाने वाले किसानों पर अब तक अमेठी के अलग-अलग थाना में मुकदमा भी पंजीकृत हुआ है। इससे किसानों में नाराजगी थी। इसके लिए जिले के डीएम ने बैठक कर बीच का रास्ता निकाला। डीएम ने किसानों को समस्या से निजात दिलाने के लिए निर्देश दिया कि प्रशासन किसानों पर कार्रवाई करने के बजाय उनकी पराली को इकट्ठा कराकर उन्हें गौ संरक्षण केंद्रों पर पहुंचाने का काम करें।

एक सप्ताह में खेतों से ख़ाली होगी पराली :-

सीडीओ ने बताया कि जिले के 13 ब्लाकों के प्रत्येक ग्राम पंचायतों में एक सप्ताह में अभियान चलाकर खेतों से पराली को इकट्ठा कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि इसके लिए जिला स्तर पर जिला स्तरीय अधिकारी जैसे कृषि अधिकारी, राजस्व विभाग के अधिकारी के साथ संबंधित तहसील क्षेत्रों के लेखपालों को भी जिम्मेदारी दी गई है। सीडीओ ने बताया कि इससे दो फायदे होंगे, एक तो किसानों का खेत भी खाली हो जाएगा और दूसरा गौशालाओं में यह चारे के आधार पर काम आ जाएगा।

[MORE_ADVERTISE1]