स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

फिल्मी स्टाइल में पीछा कर फॉरेस्ट कर्मियों ने पिकअप को पकड़ा, झांक कर देखा तो ऐसा था नजारा

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Sep 20, 2019 20:39 PM | Updated: Sep 20, 2019 20:39 PM

Ambikapur

Wood smuggling: मुखबिर से रात में मिली थी सूचना, बाइक व बोलेरो से काफी देर तक किया पीछा, अंतत: मिली सफलता

अंबिकापुर. उदयपुर वन परिक्षेत्र के वन विभाग के कर्मचारियों ने गुरुवार की रात गश्त के दौरान फिल्मी स्टाइल में पीछा कर अवैध इमारती लकडिय़ों से लदे पिकअप को धर दबोचा। (Wood smuggling)

पिकअप में 81 नग साल का चिरान लोड था। मामले में वन अमले ने 2 लकड़ी तस्करों को गिरफ्तार किया है। उनके खिलाफ वन अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई।

यह भी पढ़े : रात के अंधेरे में छत्तीसगढ़ से यूपी के लिए हो रही थी तस्करी, सूचना मिलते ही पहुंच गई टीम, पकड़ लिया फिर...


उदयपुर विकासखंड अंतर्गत डांडग़ांव सर्कल के वन कर्मचारियों को गुरुवार की रात सूचना मिली कि एक पिकअप में अवैध लकड़ी लोड कर ले जाया जा रहा है। इस पर वनकर्मियों ने पिकअप का पीछा करना शुरू किया और रुकवाने का प्रयास किया, लेकिन पिकअप चालक ने वाहन नहीं रोकी बल्कि उसकी गति और बढ़ा दी।

फिर वनकर्मी भी बाइक के साथ ही बोलेरो में भी सवार होकर पिकअप का पीछा करने लगे। आखिरकार उन्होंने पिकअप को ग्राम जमगला के पास पकडऩे में सफलता हासिल की। पिकअप चालक से पूछताछ करने पर बताया कि सूरजपुर जिले के वन परिक्षेत्र प्रेमनगर के ग्राम जनार्दनपुर से चिरान लोड कर बेचने के इरादे से लाया जा रहा था।

यह भी पढ़ें : आधी रात चोरी-छिपे कर रहे थे ये अवैध काम, रास्ते में जब पुलिस से हुआ सामना तो...

पिकअप को जमगला निवासी लोचन सिंह चला रहा था, उसके साथ उसका सहयोगी सहेश्वर सिंह भी सवार था। वन अमले ने दोनों को गिरफ्तार कर (Wood smuggling) पिकअप जब्त कर लिया।


81 नग साल की चिरान जब्त
पिकअप से 81 नग साल की चिरान लकड़ी बरामद की गई, जिसकी कीमत लगभग 80 हजार रुपए है। लकड़ी तस्करों के खिलाफ छग वनोपज व्यापार अधिनियम के तहत कार्रवाई की जा रही है।

ये भी पढ़ें : ग्रामीणों ने 3 लकड़ी तस्करों को पकड़कर किया वन विभाग के हवाले, लापरवाही तो देखिए, हिरासत से भाग निकले


कार्रवाई में ये रहे शामल
कार्रवाई में वन परिक्षेत्र सहायक रामलोचन द्विवेदी, वनरक्षक अशोक सिंह, अमरनाथ राजवाड़े, सियाराम वर्मा, भरत सिंह, धनेश्वर सिंह, बुध साय, चंद्र दास व शिव प्रसाद यादव शामिल रहे।

सरगुजा जिले की क्राइम की खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- Ambikapur crime