स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अनाथ महिला की मौत के बाद अंतिम संस्कार करने कोई नहीं आया आगे, अब इस काम आएगा उसका शव

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Nov 12, 2019 21:08 PM | Updated: Nov 12, 2019 21:08 PM

Ambikapur

Women dead body: तबीयत खराब होने पर सरपंच व पड़ोसी ने अस्पताल में कराया था भर्ती, मौत के बाद शव का दाह-संस्कार करने से इनकार करने पर पुलिस ने उठाया ये कदम

अंबिकापुर. अनाथ की जिन्दगी जी रही एक महिला (Orphan women) की इलाज के दौरान मंगलवार की सुबह मेडिकल कॉलेज अस्पताल में हो गई। महिला के संतान व रिश्तेदार न होने के कारण उसके शव को अंतिम संस्कार (Funeral) करने के लिए कोई आगे नहीं आया। इस कारण पुलिस ने उसके शव को एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए मेडिकल कॉलेज के एनाटॉमी विभाग को सुपुर्द कर दिया है।

ये भी पढ़ें: डरी-सहमी बेटी को देख मां को हुई शंका, पूछा तो रोने लगी, फिर सिसकते हुए जो बात बताई उसे सुनकर उड़ गए होश


शहर से लगे ग्राम सकालो निवासी 70 वर्षीय मानकुंवर नामक महिला अकेले खंडहरनुमा छोटे से घर में रहती थी। वह अनाथ थी। उसके कोई संतान व रिश्तेदार नहीं थे। 6 नवंबर की सुबह वह गांव के शौचालय में शौच के लिए गई थी।

ये भी पढ़ें : आईजी ऑफिस में पति और बच्चों के साथ आत्मदाह करने पहुंची कथित दुष्कर्म पीडि़ता, चौकी प्रभारी और 2 आरक्षकों पर गैंगरेप का आरोप

वहीं पर वह गिर कर जख्मी हो गई । गांव के सरपंच सुरेश कुमार ङ्क्षसह व पड़ोस के रमेश टेकाम ने उसे इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया था। यहां इलाज के दौरान मंगलवार की सुबह मौत (Women death) हो गई।

ये भी पढ़ें : बैंक ने ट्यूटर का लोन देने से मना किया तो अपनाया ये रास्ता, फिर युवती ने उसके साथ खेला ऐसा खेल कि...


सरपंच-पड़ोसी ने अंतिम संस्कार से किया इंकार
70 वर्षीय अनाथ मानकुंवर की मौत होने के बाद अस्पताल पुलिस चौकी द्वारा गांव के सरपंच सुरेश कुमार ङ्क्षसह को सूचना दी गई। सूचना पर सरपंच पड़ोसी रमेश के साथ अस्पताल पहुंचे मगर शव ले जाने से इनकार कर दिया।

इसके बाद पुलिस ने वृद्धा के शव को एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल के एनाटॉमी विभाग को सुपुर्द कर दिया है।

अंबिकापुर की खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- ambikapur News

[MORE_ADVERTISE1]