स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शहर के नामी डॉक्टर के खाते से 4 लाख 99 हजार की ऑनलाइन ठगी, बैंक अधिकारी ने ऐसे फंसाया जाल में

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Sep 18, 2019 20:18 PM | Updated: Sep 18, 2019 20:18 PM

Ambikapur

Online swindle: अज्ञात शख्स ने फोन पर खुद को बैंक अधिकारी बताकर दिया वारदात को अंजाम, मोबाइल पर मैसेज देखकर उड़ गए होश (Cyber crime)

अंबिकापुर. शहर के एक नामी डॉक्टर ऑनलाइन ठगी (Online swindle) के शिकार हो गए। दो दिन पूर्व अज्ञात शख्स द्वारा उनके मोबाइल पर फोन कर बताया गया कि आप अपने मोबाइल पर केवाइसी अपलोड कर लें। केवाइसी अपलोड करने के लिए एक ओटीपी नंबर दे रहा हूं। उसे देखकर बताएं।

ओटीपी नंबर बताने के कुछ देर बाद उनके खाते से दो बार में 4 लाख 99 हजार 30 रुपए दूसरे खाते में ट्रांसफर हो गए। डॉक्टर ने इसकी शिकायत कोतवाली में दर्ज कराई है। मामले में पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ धारा 420 के तहत अपराध दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

ये भी पढ़ें : बलात्कार के बाद अंधेरे में छोड़कर भाग रहा था तो भतीजी बोली- मौसा मुझे भी घर छोड़ दीजिए, किसी को कुछ नहीं बताऊंगी

शहर के गांधीनगर स्थित रावत रेसीडेंसी निवासी 46 वर्षीय डॉ. फैजुल हसन फिरदौसी पिता एनएच फिरदौसी की खरसिया चौक के पास निजी अस्पताल है। 13 सितंबर को उनके मोबाइल पर केवाइसी अपडेट करने का मैसेज आया। केवाइसी अपडेट (Cyber crime) करने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करना था।

डॉक्टर ने मैसेज पढ़कर केवाइसी अपडेट कर दिया। 16 सितंबर को 11.52 बजे अज्ञात शख्स ने मोबाइल नंबर 6294780460 से चिकित्सक के पास कॉल किया और कहा कि आप अपना केवाइसी अपलोड कर लें। इसके लिए एक ओटीपी नंबर दिया जा रहा है। उसे देख कर बताएं।

ये भी पढ़ें : सुसाइड नोट छोड़ पत्नी ने कर ली आत्महत्या, लिखा- मेरे पति मुझसे बहुत प्यार करते हैं लेकिन उसने मुझे..., पढ़ें और क्या-क्या लिखा

चिकित्सक ने मोबाइल पर आए ओटीपी नंबर (Online swindle) को अज्ञात व्यक्ति को बता दिया। इसके बाद डॉक्टर अपने काम में व्यस्त हो गए। दोपहर दो बजे जब उन्होंने अपना मोबाइल चेक किया तो बैंक का मैसेज आया था। दोपहर 12.46 बजे पहली बार में 2 लाख 50 हजार 15 रुपए दूसरे खाते में ट्रांसफर किया गया था।

वहीं दूसरे मैसेज में 2 लाख 49 हजार 15 रुपए का ट्रांजेक्शन किया गया था। कुल दो बार में चिकित्सक के खाते से 4 लाख 99 हजार 30 रुपए दूसरे खाते में ट्रांसफर हो गए। चिकित्सक ने जब बैंक में इस सबंध में जानकारी ली तो पता चला कि वेंचर प्राइवेट लिमिटेड के खाते में रुपए ट्रांजेक्शन किए गए हैं।

ये भी पढ़ें : मोबाइल पर ये मैसेज देखते हुए बदहवास बैंक पहुंचा सहायक मत्स्य अधिकारी, डिटेल निकलवाया तो लग चुका था 3 लाख का फटका

ठगी का शिकार होने पर चिकित्सक ने इसकी शिकायत कोतवाली में दर्ज कराई है। मामले में पुलिस अज्ञात के खिलाफ धारा 420 के तहत अपराध दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।


पिता का बेंगलुरु में चल रहा इलाज
डॉ. फैजुल हसैन फिरदौसी के पिता डॉ. एनएच फिरदौसी का इलाज बेंगलुरू के नारायण अस्पताल में चल रहा है। डॉ. फैजुल अंबिकापुर में ही हैं। वे अस्पताल का बिल ऑनलाइन भुगतान कर रहे हैं। इसी बीच उनके साथ ये वारदात हो गई।

अंबिकापुर की क्राइम की खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- Ambikapur Crime