स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Independence day: राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराते समय इन 10 जरूरी बातों को कभी न भूलें, जानें क्या हैं नियम

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Aug 14, 2019 16:39 PM | Updated: Aug 14, 2019 16:39 PM

Ambikapur

Independence day: अंबिकापुर में प्रभारी मंत्री डॉ. शिव डहरिया, सूरजपुर में खेलसाय सिंह व बलरामपुर में मंत्री उमेश पटेल करेंगे ध्वजारोहण

अंबिकापुर. सरगुजा के जिला मुख्यालय अम्बिकापुर में 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस (Independence day) समारोह में जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. शिव डहरिया ध्वजारोहण करेंगे और परेड की सलामी लेंगे। वे पीजी कॉलेज मैदान में सुबह 9 बजे ध्वजारोहण, सलामी एवं राष्ट्रगान के बाद परेड की सलामी लेने के साथ ही मु़ख्यमंत्री के संदेश का वाचन करेंगे।

सूरजपुर के जिला मुख्यालय के स्टेडियम ग्राउंड में आयोजित स्वतंत्रता दिवस (Independence day) समारोह में सरगुजा विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष व प्रेमनगर विधायक खेलसाय सिंह सुबह 9 बजे ध्वजारोहण करेंगे और परेड की सलामी लेंगे।

बलरामपुर जिले में सुबह पुलिस लाइन ग्राउंड में उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ध्वजारोहण करने के साथ ही मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन करेंगे।


सम्मान से फहराएं तिरंगा
राष्ट्रीय पर्व स्वतंत्रता दिवस पर घर-घर झंडा फहराएं। हमारा तिरंगा राष्ट्रीय गौरव के प्रतीक और जन आकांक्षाओं का प्रतिरूप है। संविधान ने सम्मान के साथ झंडा फहराने का अधिकार देश के नागरिकों को दिया है।


ये है नियम
भारतीय झंडा संहिता 2002 राष्ट्रीय गौरव अपमान अधिनियम 1971 के उपबंधों के तहत राष्ट्रीय झंडे का प्रदर्शन नियंत्रित होता है। इसके लिए संहिता में नियम निर्देशों का उल्लेख है। इसे 26 जनवरी 2002 से लागू किया गया है।


ये शपथ हाथ जोड़कर लेनी है
मैं राष्ट्रीय झंडा और लोकतंत्रात्मक संपूर्ण प्रभुत्व संपन्न समाजवादी पंथ निरपेक्ष गणराज्य के प्रति निष्ठा की शपथ लेता/लेती हूं, जिसका यह झंडा प्रतीक है।


इनका रखें ध्यान
1. कटे-फटे और गंदा झंडा न फहराएं।
2. झंडे को स्फूर्ति से फहराया जाए और धीरे-धीरे आदर के साथ उतारा जाए।
3. झंडे पर कुछ भी लिखा हुआ नहीं होना चाहिए।
4. किसी भी स्थिति में झंडा झुका हुआ नहीं हो।
5. जानबूझकर केसरिया रंग को नीचे न करें।
6. झंडा बंद स्थान पर नहीं बल्कि खुले में फहराएं।


7. झंडा निर्धारित समय सूरज डूबने से पहले सम्मान पूर्वक उतार दें।
8. उतरे झंडे को नियमानुसार मोड़ कर सम्मानपूर्वक रखें।
9. झंडे का प्रदर्शन सभा मंच पर किया जाता है तो उसे इस प्रकार फहराया जाए कि जब वक्ता का मुंह श्रोताओं की ओर हो तो झंडा उनके दाहिने ओर हो।
10. झंडा सूर्य उदय के बाद फहराएं और सूर्यास्त के पूर्व ससम्मान उतारें।

 

सरगुजा जिले की अन्य खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- Ambikapur News