स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नगरीय निकाय और पंचायत चुनावों में राज्य में पहली बार हो रहा ऐसा, गलत जानकारी देने पर मिलेगी सजा, आप भी पढ़े लें ये खबर...

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Sep 15, 2019 15:40 PM | Updated: Sep 15, 2019 15:40 PM

Ambikapur

Chhattisgarh election commission: त्रिस्तरीय पंचायत व नगरीय निकाय चुनावों को निष्पक्ष व पारदर्शी तरीके से संपन्न कराने छत्तीसगढ़ राज्य निर्वाचन आयोग ने लिया निर्णय

अम्बिकापुर. छत्तीसगढ़ राज्य निर्वाचन आयोग (Chhattisgarh election commission) की सचिव जिनेविवा किण्डो की अध्यक्षता में प्रदेश में आसन्न त्रिस्तरीय पंचायत एवं नगरीय निकाय निर्वाचन की तैयारियों के संबंध में शनिवार को कलक्टोरेट सभाकक्ष में बैठक हई।

किण्डो ने कहा कि प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत एवं नगरीय निकाय निर्वाचन को निष्पक्ष और पारदर्शी तरीके से सम्पन्न कराने के लिए निर्वाचन आयोग की तर्ज पर राजनीतिक दलों द्वारा निर्वाचक अभिकर्ताओं की नियुक्ति की जाएगी। उन्होंने कहा कि स्थानीय निर्वाचन में यह व्यवस्था राज्य में पहली बार की जा रही है। निर्वाचक अभिकर्ताओं की नियुक्ति होने से दलों से संबंधित शिकायतों का त्वरित निराकरण हो सकेगा।


किण्डो ने कहा कि निर्वाचक अभिकर्ता की नियुक्ति के संबंध में आयोग के निर्णय को अधिकारी सभी राजनीतिक दलों को अवगत कराएं तथा निर्वाचक अभिकर्ता नामावली तैयार करने के संबंध में संबंधित अधिकारियों को निर्देशित करें। उन्होंंने कहा कि निकाय निर्वाचन के साथ ही पंचायतों के वार्डों के परिसीमन की कार्रवाई चल रही है।

परिसीमन की पूरी तरह से सत्यापन कराएं और शासन द्वारा जो निर्देश जारी किए गए है उनका अनुपालन करते हुए समय पर रिपोर्ट शासन को भेजें। वार्ड परिसीमन में कहीं-कहीं मतदाता दूसरे वार्ड में शिफ्ट हो गए है इस बात की जानकारी मतदाताओं को दें। प्रभारी कलेक्टर कुलदीप शर्मा ने कहा कि विधानसभा एवं लोकसभा में जिले में बहुत अच्छा मतदान प्रतिशत रहा है तथा पूरी टीम ने बेहतर ढंग से कार्य संपादित किया था।

स्थानीय निर्वाचन में भी निर्वाचन आयुक्त के निर्देशों का अनुपालन करते हुए टीम वर्क के साथ निर्वाचन संपन्न कराया जाएगा। बैठक के बाद कलेक्टोरेट परिसर में जाबो (जागव voter) के तहत मतदाताओं को जागरूक करने के लिए स्कूली छात्र-छात्राओं द्वारा निर्मित मानव श्रृंखला को शहर के विभिन्न मार्गो में भ्रमण हेतु रवाना किया गया।

बैठक में उपायुक्त राजस्व केआर भगत, उप जिला निर्वाचन अधिकारी सन्तन देवी जांगड़े, निगम आयुक्त हरीश मण्डावी सहित अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, जनपदों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं मुख्य नगरपालिका अधिकारी मौजूद थे।


मतदाता सूची में नाम विलोपन की प्रक्रिया संवेदनशील मामला
निवार्चन आयोग की सचिव ने कहा कि मतदाता सूची गंभीरता एवं संवेदनशीलता के साथ तैयार करें। नाम जोडऩे एवं विलोपन करने की कार्रवाई में नियमों का पूर्णत: पालन करें। किण्डो ने कहा कि मतदाताओं को अपने वार्ड के अनुसार मतदाता सूची में नाम की जानकारी हो, इसके लिए हर रविवार को प्रत्येक वार्ड में मतदाता सूची का वाचन करायें।

वाचन कर पंचनामा तैयार करायें जिससे कि मृत, अनुपस्थित, पलायन करने वाले मतदाताओं की जानकारी सही-सही मिल सके और फर्जी मतदाता की पहचान हो सके। उन्होंने कहा कि मतदाता सूची से नाम विलोपित करने की कार्रवाई बहुत ही संवेदनशील मामला है । इस पर पूरी सुनवाई करने के बाद ही कार्रवाई करें।


गलत जानकारी देने पर होगी कार्रवाई
उप सचिव एस आर वान्धे ने बताया कि निर्वाचन नियम 3( क) और 3( ख) में संशोधन किया गया है। 3( क) के तहत अब यदि कोई निर्वाचक नामावली में गलत तरीके से नाम जोडऩे या विलोपित करता है तो उसके विरूद्ध दांडिक कार्रवाई होगी। वही नियम 3 ( ख) के तहत यदि कोई मतदाता नाम जोडऩे या विलोपित करने में गलत जानकारी देता है तो उसके खि़लाफ़ भी दाण्डिक कार्रवाई होगी।


रोल आब्जर्वर की नियुक्ति का प्रावधान
उप सचिव ने बताया कि स्थानीय निर्वाचन पारदर्शी तरीके से सम्पन्न कराने के लिए आयोग ने रोल आब्जर्वर की नियुक्ति का प्रावधान किया है। सभी स्तर पर सतत निगरानी के लिए निगरानी की प्रतिशत तय की है।

उन्होंने कहा कि हर स्तर की निगरानी में कोई ढिलाई न बरतें। उन्होंने बताया कि स्थानीय निर्वाचन में मतदाताओं को मतदान के प्रति जागरूक करने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने जाबो(जागव बोटर) अभियान की शुरुआत की है।