स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नौकरी लगाने के नाम पर 50 लाख की ठगी: महिला समेत 4 और गिरफ्तार, ठगी के रुपए से खरीदी थी luxury कार

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Oct 18, 2019 19:19 PM | Updated: Oct 18, 2019 19:19 PM

Ambikapur

Chhattisgarh crime: जिला पंचायत एवं कलक्टोरेट में भृत्य, चालक व स्टेनोग्राफर के पद पर नौकरी दिलाने का दिया था झांसा, 3 पहले ही जा चुके हैं जेल

अंबिकापुर. जिला पंचायत व कलक्टोरेट में भृत्य, चालक व स्टेनोग्राफर के पद पर नौकरी लगवाने के नाम पर दर्जनभर से अधिक लोगों से 50 लाख की ठगी (Swindle in the name of job) के मामले में मणिपुर चौकी पुलिस ने 4 और आरोपियों गिरफ्तार किया है। इससे पूर्व 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर पुलिस ने जेल भेज दिया था।


कुछ माह पूर्व शहर के दर्रीपारा निवासी 29 वर्षीय दिनेश प्रजापति पिता स्व. देवलाल प्रजापति ने जिला पंचायत कार्यालय में नौकरी लगाने के नाम पर लाखों रुपए की ठगी (Swindle) की शिकायत मणिपुर चौकी में दर्ज कराई थी।

ये भी पढ़ें: नौकरी लगाने के नाम पर 50 लाख से अधिक की ठगी का भंडाफोड़, सरकारी कर्मचारी समेत 3 भेजे गए जेल

इस मामले की पुलिस ने जांच की तो एक दर्जन से ज्यादा लोगों से नौकरी लगाने के नाम पर लाखों की ठगी का मामला सामने आया था। कोतवाली पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए एक सप्ताह पूर्व ठगी के मुख्य आरोपी सुमित यादव, मुन्ना दास व सौरव चखियार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

ठगी के इस मामले में शहर के पटपरिया निवासी 27 वर्षीय विद्यासागर पैकरा पिता हेमराज, चिटकीपारा निवासी 35 वर्षीय राजेश कुजूर पिता केंदुराम, दरिमा थाना क्षेत्र के नवानगर निवासी 27 वर्षीय प्रीतम ङ्क्षसह उर्फ सोनू पिता नान्हू ङ्क्षसह व शंकरगढ़ क डीपाडीह निवासी 28 वर्षीय ललिता भगत पति राजु भगत फरार थे।

ये भी पढ़ें : बीए के स्टूडेंट निकले साइबर क्राइम के मास्टरमाइंड, खेत में बैठकर बनते थे बैंक मैनेजर और..., पुलिस ने ऐसे पकड़ा

मुखबिर की सूचना पर मणिपुर चौकी पुलिस ने सभी फरार आरोपियों को उनके निवास स्थान पर दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने सभी आरोपियों को न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया है।


ठगी के रुपए से खरीदी थी कार
बेरोजगारों से रुपए ऐंठने के बाद आरोपियों ने उसे अपने ऐशो-आराम पर खर्च किया था। आरोपी विद्यासागर ने ठगी की रकम से कार भी खरीदी थी, उसे भी पुलिस ने जब्त कर लिया है।

अंबिकापुर की क्राइम की खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- Ambikapur crime