स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लाश खोजने पहुंचे गोताखोरों की अचानक जब इस चीज पर पड़ी नजर तो..., दूसरे दिन मिले थे सिर्फ जूते-कपड़े

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Oct 15, 2019 18:30 PM | Updated: Oct 15, 2019 18:30 PM

Ambikapur

Chhattisgarh crime: अंबिकापुर से गोताखोरों की टीम पंच की बॉडी बरामद करने दो दिन से कर रही थी मशक्कत, मैनपाट के कुदारीडीह का मामला

मैनपाट/अंबिकापुर. मैनपाट के कुदारीडीह में बाक्साइट उत्खनन के बाद छोड़े गए गड्ढे में भरे पानी में एक ग्रामीण के डूबने की आशंका परिजनों ने जताई थी। ग्रामीण अपने ग्राम पंचायत का पंच भी था। स्थानीय पुलिस की पहल पर जिला मुख्यालय अंबिकापुर से गोताखोरों की टीम उसकी बॉडी बरामद करने मशक्कत कर रही थी।

पहले दिन तो उन्हें कोई कामयाबी नहीं मिली लेकिन दूसरे दिन मंगलवार को उन्होंने पंच की लाश बरामद कर ली। लाश पानी के ऊपर आ गई थी। गौरतलब है कि मवेशी चराने के दौरान रविवार की दोपहर पंच उक्त गड्ढे के पास गया था।

आशंका जताई जा रही है कि वह नहाने उतरा होगा और डूबकर (Drowned in pond) उसकी मौत हो गई होगी। घटनास्थल पर उसके कपड़े और जूते मिले थे।


मैनपाट के कुदारीडीह में बाक्साइट उत्खनन के बाद गड्ढा छोड़ दिया गया है। इस गड्ढे में पानी भरने से उसने तालाब का रूप ले लिया है। रविवार की दोपहर ग्राम कुदारीडीह निवासी पंच 65 वर्षीय सुरेन्द्र पिता गोपाल पैकरा तालाबनूमा गड्ढे के पास मवेशी चराने गया था। शाम को सभी मवेशी तो वापस लौट गए, लेकिन सुरेन्द्र पैकरा घर नहीं पहुंचा।

परिजन ने जब सोमवार की सुबह उसकी तलाश की तो गड्ढे के समीप उसके जूते व कपड़े दिखाई दिए। गड्ढे में डूबने की आशंका को लेकर परिजनों ने इसकी जानकारी कमलेश्वरपुर थाने में दी। पुलिस की टीम ने मौके पर पहुंचकर पहले ग्रामीणों की मदद से गड्ढे में ग्रामीणों को ढूंढने का प्रयास किया, लेकिन असफल रहे।


दूसरे दिन गोताखोरों को मिली सफलता
कमलेश्वरपुर टीआई द्वारा इस संबंध में जिला सेनानी कार्यालय अंबिकापुर में बात कर गोताखोरों की मांग की गई थी। 3 गोताखोरों की टीम ने सोमवार को दिनभर पंच को खोजने मशक्कत की, लेकिन शाम तक कहीं उसका पता नहीं चला।

मंगलवार को पुन: गोताखोरों की टीम द्वारा उसकी खोजबीन शुरु की गई, इसी बीच उसकी लाश गहरे गड्ढे की ओर मिली। लाश पानी के ऊपर आ गई थी। मौके पर काफी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ भी उमड़ी रही। पंच का शव देख उसके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। वहीं ग्रामीणों में गड्ढा छोड़ दिए जाने को लेकर काफी आक्रोश है।