स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Breaking News: बचपन में माता-पिता की हो गई हत्या, 11 साल की हुई तो मामा-मामी ने 4 दरिंदों से कराया गैंगरेप, गर्भवती हुई तो...

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Aug 19, 2019 21:13 PM | Updated: Aug 19, 2019 21:13 PM

Ambikapur

Chhattisgarh crime: 12 साल की बालिका ने जो कहानी बताई वह है काफी दर्दनाक, इतनी छोटी उम्र में उससे जो दरिंदगी हुई, वह अपराधियों को माफ करने लायक नहीं

अंबिकापुर. बचपन में जिस बच्ची के सिर से मां-बाप का साया उठ गया था, उसके ही सगे मामा-मामी ने उसके साथ वह कर्म किया जो एक सभ्य समाज में अपराध माना जाता है। मामा-मामी द्वारा न केवल उसके साथ मारपीट की गई, बल्कि गांव के 4 लड़कों के साथ जंगल भेज दिया, जहां उन्होंने उसके साथ सामूहिक बलात्कार ( Gang rape) कर छोड़ दिया।

वह गर्भवती हुई तो गर्भपात करा दिया गया। शिकायत मिलने पर सीतापुर चाइल्ड लाइन द्वारा बालिका को उसके मामा-मामी के पास से बरामद कर सीडब्ल्यूसी के समक्ष पेश कर दिया गया, लेकिन अब तक कोई भी वैधानिक कार्रवाई इस मामले में नहीं की गई है।

 

यह भी पढ़ें : 2 छात्राओं से सामूहिक बलात्कार करने वाले 2 आरोपियों को भी पुलिस ने दबोचा, 2 पहले ही जा चुके हैं जेल


जिस बालिका ने माता-पिता के दुलार को भी ठीक से देखा नहीं था कि किसी ने उनकी हत्या कर दी थी। इससे बच्ची का बचपन कहीं गुम हो गया। थोड़ी बड़ी हुई तो अपने सगे मामा-मामी का हाथ थाम वह कापू धरमजयगढ़ से सीतापुर आ गई। यहां मामा-मामी ने उसका भविष्य संवारने की जगह उसे बचपन से ही काम के बोझ तले दबा दिया।

उससे न केवल घर का काम करवाना शुरू करवा दिया, बल्कि अपने बच्चे को खिलाने की जिम्मेदारी दे दी। बच्ची से अगर थोड़ी से गलती हो जाती थी तो उसकी जमकर पिटाई की जाती थी। इस दौरान मामा-मामी को उस पर रहम भी नहीं आता था।

इससे पूर्व भी बाल श्रम के खिलाफ कार्रवाई करते हुए चाइल्ड लाइन द्वारा उसके मामा-मामी के खिलाफ कार्रवाई की गई, लेकिन इसका उन पर असर नहीं हुआ तथा वे उसे और अधिक प्रताडि़त करने लगे।

 

यह भी पढ़ें : 16 साल की 2 लड़कियों को बंधक बनाकर होटल में 4 दिन तक गैंगरेप, होटल मैनेजर, कर्मचारी सहित 3 गिरफ्तार


जंगल भेज दिया था लड़कों के साथ
बालिका ने सीडब्ल्यूसी को जो आपबीती बताई उसके अनुसार उसके मामा-मामी उसके साथ मारपीट तो करते थे ही, घर में अन्य लड़कियों को भी बुलाकर गलत काम करते थे। एक दिन जब वह घर में अकेली थी तो उसकी मामी वहां पहुंची और उसे 4 लड़कों के साथ जाने को बोली, मना करने पर उसे जबरदस्ती भेज दिया।

लड़कों ने उसे जंगल ले जाकर उसके साथ बलात्कार किया। इससे वह 12 वर्ष की कम उम्र में गर्भवती भी हो गई। इसकी जानकारी लगने के बाद बालिका के नाना-नानी ने उसे गांव के ही एक डॉक्टर के पास ले जाकर गर्भपात करा दिया।


सीतापुर चाइल्ड लाइन ने सीडब्ल्यूसी को सौंपा
शिकायत मिलने पर सीतापुर चाइल्ड लाइन द्वारा बालिका को उसके मामा-मामी के पास से बरामद कर सीडब्ल्यूसी के समक्ष पेश कर दिया गया। अब सीडब्ल्यूसी इस पूरे मामले की तहकीकात कर आगे की कार्रवाई करने के लिए खुद सक्षम है। सीडब्ल्यूसी के अधिकारी खुद चाहें तो थाने में एफआईआर दर्ज कराने के लिए लिख सकते हैं।

 

सरगुजा जिले की क्राइम से संबंधित खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- Crime in Ambikapur