स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दोस्त बोला- मेरे ससुराल चलो, घरवालों ने मना किया लेकिन नहीं माना, फिर चंद घंटे में आई ऐसी खबर की उड़ गए होश

Ram Prawesh Wishwakarma

Publish: Aug 16, 2019 19:14 PM | Updated: Aug 16, 2019 19:14 PM

Ambikapur

Ambikapur crime: मृतक के भाई के मोबाइल पर रात में आई खबर तो पहुंच गया अस्पताल, दोस्त से पूछा तो ये बात बोलकर मोबाइल कर लिया स्वीच ऑफ

अंबिकापुर. Ambikapur crime: दिव्यांग युवक का दोस्त गुरुवार को उसके घर पहुंचा और बोला कि मेरे साथ मेरे ससुराल चलो। यह बात सुनकर घरवालों ने उसे मना किया लेकिन दिव्यांग भी नहीं माना और चला गया। रात में दिव्यांग के भाई के मोबाइल पर सड़क दुर्घटना (Road accident) में उसके भाई के भर्ती होने की खबर आई।

जब वह अस्पताल पहुंच तो भाई बेहोश था। इलाज के दौरान सुबह उसकी मौत हो गई। इधर जब मृत दिव्यांग के भाई ने उसके दोस्त से संपर्क किया तो उसने कहा कि एक्सिडेंट के बाद मैं उसे वहीं छोड़ आया था। इसके बाद उसने मोबाइल स्वीच ऑफ कर लिया। दोस्त की इस हरकत पर परिजनों ने सड़क दुर्घटना को लेकर संदेह जताया है।

 

ये भी पढ़ें : पेड़ से टकराते ही कार के उड़ गए परखच्चे, 2 युवकों की दर्दनाक मौत, कार को काटकर निकाली गई लाश


दरिमा थानांतर्गत ग्राम नवानगर निवासी नीरू राम सारथी पिता बोडरा 24 वर्ष दिव्यांग था। गुरुवार की शाम गांव में ही रहने वाला उसका दोस्त रामकुमार उसके घर पहुंचा और बोला कि वह उसके साथ ससुराल ग्राम कंठी चले। यह बात जब घरवालों ने सुनी तो उन्होंने उसे जाने से मना किया।

रामकुमार की जिद देखकर नीरू उसके साथ चला गया। इसी बीच देर रात नीरू के भाई के मोबाइल पर किसी का कॉल आया। उसने कहा कि उसका भाई सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल है, उसे मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है। यह सुनते ही भाई व अन्य परिजन अस्पताल पहुंच गए।

 

ये भी पढ़ें : बाइक से सड़क पर गिरी महिला ने देखा तो आ रहा था ट्रेलर, हाथ देकर रोकने कहा लेकिन ड्राइवर ने कुचल डाला, बटोरनी पड़ी लाश

 

यहां उन्होंने देखा तो वह बेहोश था। इसके बाद भाई ने रामकुमार को कॉल किया। उसने जब घटना के संबंध में पूछताछ की तो उसने बताया कि रात में सड़क दुर्घटना में नीरू घायल हो गया था, उसे घटनास्थल पर ही छोड़कर मैं अस्पताल आ गया था। इसके बाद उसने अपना मोबाइल स्वीच ऑफ कर लिया। इधर इलाज के दौरान सुबह दिव्यांग नीरू की मौत हो गई।

 

ये भी पढ़ें : तेज रफ्तार बस ने सुहागन को एक झटके में बना दिया विधवा, पति की मोत से सदमे में पत्नी


सड़क दुर्घटना में मौत पर जता रहे संदेह
दिव्यांग की मौत के बाद उसके परिजन सड़क दुर्घटना को संदेहास्पद मान रहे हैं। उनका कहना है कि सड़क दुर्घटना नहीं हुई है, रामकुमार की बात पर उन्हें शंका है। रामकुमार ने अपना मोबाइल भी बंद कर लिया है। उन्होंने यह भी कहा कि जब सड़क दुर्घटना हुई तो वह उसे घटनास्थल पर ही छोड़कर क्यों फरार हो गया।

 

सरगुजा जिले की क्राइम से संबंधित खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- Crime in Ambikapur