स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Ambala: विधानसभा में अब अभय के साथ केवल 4 विधायक

Devkumar Singodiya

Publish: Jul 21, 2019 19:24 PM | Updated: Jul 21, 2019 19:24 PM

Ambala

Haryana Politics: हरियाणा की राजनीति में इनेलो का अस्तित्व लगातार खात्मे की तरफ बढ़ रहा है। अब अभय सिंह चौटाला के साथ केवल 4 ही विधायक हैं।

(चंडीगढ़/अम्बाला संजीव शर्मा) । हरियाणा की राजनीति ( Haryana politics ) में इनेलो का अस्तित्व लगातार खात्मे की तरफ बढ़ रहा है। एक-एक करके इनेलो के विधायक पार्टी से कन्नी काट रहे हैं। जिसके चलते निकट भविष्य में होने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी को कई तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। वर्ष 2014 में इनेलो 19 विधायकों के साथ प्रमुख विपक्षी दल बना था। इस अवधि में इनेलो के दो विधायकों का देहांत हो गया, जबकि पिछले वर्ष के आखिर में चौटाला परिवार ( Chautala Family ) और इनेलो में हुई टूट के बाद कई विधायक पार्टी छोड़ गए। विधानसभा में विधायक दल नेता अभय सिंह चौटाला के साथ केवल चार ही विधायक हैं।

विपक्ष के नेता का पद भी जा चुका

अभय (Abhay Chautala ) का विपक्ष के नेता का पद भी जा चुका है। कालांवाली से अकाली दल विधायक बलकौर सिंह भी भाजपा के साथ गठबंधन के चलते सरकार के साथ हैं। पिछले चुनाव के दौरान रणबीर सिंह गंगवा ने नलवा, केहर सिंह रावत ने हथीन और बलवान सिंह दौलतपुरिया ने फतेहाबाद विधानसभा से इनेलो ( INLD ) टिकट पर चुनाव जीता था। तीनों इस्तीफा देकर भाजपा में जा चुके हैं। इनेलो के विधायक नसीम अहमद ने लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस का दामन थामा था लेकिन अब वह भी भाजपा से नजदीकियां बढ़ा रहे हैं।

खराब हाल

वहीं पिहोवा से इनेलो विधायक रहे जसविंद्र सिंह संधू का निधन होने की वजह से यह सीट खाली है। वर्तमान में इनेलो विधायक दल के नेता अभय चौटाला के साथ केवल चार ही विधायक नजऱ आ रहे हैं। इनमें सिरसा से मक्खन लाल सिंगला, लोहारू से ओमप्रकाश बरवा, बरवाला से वेद नारंग, रतिया से विधायक प्रो. रविन्द्र बरियाला शामिल हैं। हालांकि बरियाला भी भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला से मुलाकात कर इनेलो छोडऩे का ग्राउंड बना चुके हैं।

जेजेपी का समर्थन

इनेलो टिकट पर चुनाव जीतने वाले चार विधायक पूर्व सांसद दुष्यंत चौटाला के नेतृत्व वाली जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) ( Jjp ) का समर्थन कर रहे हैं। इनमें खुद दुष्यंत की मां व डबवाली विधायक नैना चौटाला, दादरी विधायक राजदीप फौगाट, उकलाना विधायक वेद नारंग व नरवाना विधायक पिरथी सिंह नंबरदार जेजेपी के साथ आ चुके हैं। सूत्रों का कहना है कि मौजूदा चार में से भी दो विधायक भाजपा ( Haryana Bjp ) से संपर्क साधे हुए हैं। फरीदाबाद विधायक नगेंद्र भड़ाना पिछले लगभग तीन वर्षों से सरकार के ही साथ चल रहे हैं। बताया जा रहा है इनेलो को अगले माह होने वाले मानसून सत्र से पहले बड़ा राजनीतिक झटका लग सकता है।