स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जिला परिषद को भारी पड़ी भाजपा के जिला पार्षदों की नाराजगी

Subhash Raj

Publish: Oct 22, 2019 01:33 AM | Updated: Oct 22, 2019 01:33 AM

Alwar

अलवर. जिला परिषद साधारण सभा की बैठक में सोमवार को भाजपा पार्षद बेकाबू हो गए और उन्होंने जमकर हंगामा किया। इससे पहले जिला परिषद साधारण सभा की बैठक सोमवार को फिर कोरम अभाव में स्थगित हो गई। सुबह 11 बजे बैठक शुरू होनी थी, लेकिन कोरम पूरा नहीं होने पर दोपहर करीब 12 बजे बैठक स्थगित कर दी गई।

जिला परिषद की गत साधारण सभा की बैठक भी कोरम अभाव में स्थगित करनी पड़ी थी। बार-बार बैठक स्थगित करने का भाजपा जिला पार्षदों ने विरोध किया।
जिला परिषद की साधारण सभा की बैठक स्थगित होने के बाद अरविंद यादव, भागचंद बैरवा, हरिओम कटारा सहित अन्य भाजपा जिला पार्षद पहले तो अपनी सीटों पर खड़े होकर बैठक स्थगित करने का विरोध करने लगे। बाद में भाजपा जिला पार्षद जिला प्रमुख आसन के सामने आकर विरोध करने लगे तथा वहीं जमीन पर बैठ गए। बाद में भाजपा जिला पार्षद विरोध करते हुए सभागार से नीचे उतर कर जिला परिषद के मुख्य गेट पर आ गए और मुख्य गेट को बंद कर वहीं धरने पर बैठ गए। उन्होंने विरोध स्वरूप नारेबाजी भी की। भाजपा जिला पार्षदों का विरोध बढ़ता देख जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विनय नगायच उनके पास आए और उनकी समस्या सुनी। बाद में मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने जिला प्रमुख से चर्चा कर भाजपा जिला पार्षदों को जल्द ही साधारण सभा की बैठक आयोजित करने का आश्वासन दिया। इसके बाद भाजपा पार्षदों ने धरना खत्म कर मुख्य गेट खोला।

भाजपा जिला पार्षदों का यह था आरोप: भाजपा जिला पार्षदों का आरोप था कि सरकार के इशारे पर जिला परिषद की बैठक बार-बार स्थगित की जा रही है। बैठक नहीं होने से वे अपने क्षेत्रों की समस्याओं को नहीं उठा पा रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि अधिकारी नहीं चाहते थे कि विपक्ष के जिला पार्षदों के काम हो।

विधायक व प्रधान आए, जिला पार्षद पूरे नहीं पहुंचे: साधारण सभा की बैठक में थानागाजी विधायक कांति प्रसाद मीणा पहुंचे, वहीं जिले की करीब आधी पंचायत समितियों के प्रधान भी मौजूद थे। लेकिन बैठक में जरूरत के मुताबिक जिला पार्षद नहीं पहुंचे, जिससे कोरम पूरा नहीं हो सका और बैठक स्थगित करनी पड़ी।