स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नामांकन में दो दिन शेष, मत्स्य विवि ने जारी नहीं किया परिणाम

Dharmendra Adlakha

Publish: Aug 20, 2019 11:43 AM | Updated: Aug 20, 2019 11:43 AM

Alwar

मत्स्य विश्वविद्यालय की लेट लतीफी का नुकसान इस साल विधि महाविद्यालय के विद्यार्थियों को उठाना पड़ रहा है। विश्वविद्यालय ने अब तक एलएलबी प्रथम व द्वितीय वर्ष का परिणाम घोषित नहीं किया है इसके कारण विद्यार्थी छात्रसंघ चुनाव को लेकर असमंजस में है।

मत्स्य विश्वविद्यालय की लेट लतीफी का नुकसान इस साल विधि महाविद्यालय के विद्यार्थियों को उठाना पड़ रहा है। विश्वविद्यालय ने अब तक एलएलबी प्रथम व द्वितीय वर्ष का परिणाम घोषित नहीं किया है इसके कारण विद्यार्थी छात्रसंघ चुनाव को लेकर असमंजस में है।

छात्रसंघ चुनाव के नामांकन में मात्र दो दिन शेष हैं, लेकिन अभी तक विश्वविद्यालय की ओर से विधि के प्रथम व द्वितीय वर्ष का परिणाम घोषित नहीं किया। चुनाव लडऩे के इच्छुक विद्यार्थियों को चिंता है कि अगर दो दिन में परिणाम घोषित नहीं होता, तो वे चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। परिणाम नहीं आने के कारण वे दुविधा में है कि नामांकन दाखिल करें या नहीं। विधि प्रथम व द्वितीय वर्ष की परिक्षाएं 1 जून से शुरु होकर 4 जुलाई को समाप्त हो गई, डेढ़ माह का समय बीत जाने के बाद भी विश्वविद्यालय ने परिणाम जारी नहीं किए हैं। वहीं राजस्थान विश्वविद्यालय की परीक्षाएं 16 जुलाई को समाप्त हुई हैं।

राजस्थान विश्वविद्यालय ने 10 अगस्त को परिणाम घोषित कर दिया है। राजस्थान विश्वविद्यालय से करीब 10 हजार विद्यार्थी एलएलबी कर रहे हैं। मत्स्य विवि में करीब 1200 विद्यार्थी एलएलबी की कर रहे हैं। इसके बावजूद मत्स्य विश्वविद्यालय ने अब तक परिणाम घोषित नहीं किया है।वंचित रह जाते हैं प्रथम वर्ष के विद्यार्थीराजकीय विधि महाविद्यालय अलवर में पिछले 4 साल से द्वितीय व तृतीय वर्ष के विद्यार्थी ही छात्रसंघ चुनाव में भाग ले पाते हैं। गत 4 वर्षों से विधि महाविद्यालय के प्रथम वर्ष के प्रवेश अक्टूबर माह में हो रहे हैं, ऐसे में प्रथम वर्ष के विद्यार्थी छात्रसंघ चुनाव से वंचित रह जाते हैं। इस साल सीकर के विधि महाविद्यालय में प्रथम वर्ष के प्रवेश हो गए हैं, लेकिन इस साल विधि महाविद्यालय अलवर को प्रथम वर्ष के प्रवेश की अनुमति नहीं मिल पाई है। छात्र नेता आरडी शर्मा ने इस मामले में विश्वविद्यालय से स्थिति स्पष्ट करने को कहा है।