स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रात को सो रहे पति-पत्नी पर बदमाशों ने किया हमला, कमरे में घुसकर की मारपीट, पैसे और जेवरात लेकर फरार

Lubhavan Joshi

Publish: Sep 21, 2019 17:14 PM | Updated: Sep 21, 2019 17:14 PM

Alwar

घर में सो रहे पति-पत्नी पर हमला कर बदमाश उनके घर चोरी की वारदात को अंजाम दे गए।

अलवर. अलवर जिले के भिवाड़ी के पास रामपुरा गांव में गुरुवार रात सीढ़ी लगाकर एक घर में घुसे चोरों ने दंपती और उनकी बेटी से डंडे-चाकू से मारपीट कर 20 हजार नकदी सहित दो सोने के लॉकिट और पायजेब पर हाथ साफ कर दिया। विरोध करने पर हुई मारपीट में दंपती और बेटी घायल हो गए। पीडि़त भीमसिंह ने बताया कि रात करीब 2 बजे सीढ़ी की मदद से चोर उनके घर में घुसे। घटना के समय भीमसिंह के बेटे साहिल को सूटकेश खुलने की आवाज आई तो उसने अपनी मम्मी को बोला। मम्मी का जवाब नहीं आने पर उसने शोर मचा दिया। शोर सुनकर पास के कक्ष में सो रहे भीमसिंह की नींद खुल गई। जब भीमसिंह ने चोरों का विरोध किया तो चोरों ने डंडे से भीमसिंह पर वार कर दिया। इस दौरान भीमसिंह की पत्नी बीना और बेटी शाहिदा भी मौके पर पहुंची तो उनके साथ भी चोरों ने डंडे से मारपीट की।

मारपीट में जिससे भीमसिंह के आंख और पैर, शाहिदा और बीनादेवी के हाथ, पैर व पीठ में चोट लगी। इसके बाद चोर चाकू दिखाते हुए पायजेब, दो गले के सोने के लॉकिट और करीब 20 हजार की नकदी लेकर पार
हो गए।

बेटी की शादी के लिए बनवाए थे गहने

पीडि़त भीमङ्क्षसह ने बताया कि उसने अपनी बेटी शाहिदा की शादी के लिए पैर के पायजेब और दो सोने के लॉकिट बनवाए थे। जिनको चोर ले गए। भीमसिंह की पत्नी बीना लेडीज कॉस्मेटिक सामान की ठेली लगाती है। बीना ने बेटी की शादी के लिए करीब 20 हजार की नकदी जोडकऱ घर में रखी थी। उसेे भी चोर ले गए।

पीडि़त का शक दरकिनार, पुलिस के हाथ खाली

पीडि़त भीमसिंह ने बताया कि वारदात के दौरान सूचना देने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने चोरों के बारे में पूछा तो हमने शक के आधार पर रामपुरा की पहाड़ी के पीछे बनी झुग्गियों में चोर होने की जानकारी दी। जिस पर पुलिस मुझे मौके पर ले गई और वहां से मेरी पहचान पर तीन आरोपियों को पकडकऱ थाने ले गई। लेकिन इस संबंध में फूलबाग थाने के एचएम ने बताया कि इस मामले में अभी तक किसी चोर को नहीं पकड़ा है। केवल पीडि़तों को आसपास के इलाके में साथ ले जाया गया था।