स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नहीं आई पीं की आवाज तो मन मसोस कर रह गए 'वोटर'

Subhash Raj

Publish: Jan 19, 2020 22:58 PM | Updated: Jan 19, 2020 22:58 PM

Alwar

अलवर. पंचायत राज संस्थाओं के चुनावों में इवीएम मशीन से वोटिंग होने के चलते प्रत्याशी मतदाताओं को इवीएम के डेमों के जरिए बता रहे हैं कि जब तक पीं की आवाज नहीं आए तब तक अपना वोट डला हुआ मत मानना। इससे मतदान के दौरान कई बार रोचक हालात भी बन गए जब मतदाता का ध्यान पीं की आवाज सुनने से चूक गया तो वे मन मसोस कर रह गए।

चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों के समर्थक शहर से गांव जाकर चुनाव प्रचार कर रहे हैं। इतना ही नहीं शहर में स्थित चुनाव सामग्री की दुकानों पर चुनाव प्रचार सामग्री की बिक्री तेज हो गई है। दुकानों पर सरपंच के बैलेट पेपर, पंच के बैलेट पेपर, मतदाता पर्चियां, क्रास मोहर, पंचायत निर्वाचन की गाइड लाइन की खूब बिक्री हो रही है।
राज्य सरकार की ओर से अलवर जिले में पहली बार पंचायत के चुनाव में ईवीएम मशीन से चुनाव करवाए जा रहे हैं। इसके लिए चुनाव लड रहे प्रत्याशी बाजार में मिल रही ईवीएम की डेमो मशीन खरीद कर ले जा रहे हैं जिससे कि मतदाताओं को इवीएम का प्रयोग करके दिखा सके। अलवर के घंटाघर पर स्थित प्रचार सामग्री की दुकान के संचालक राहुल ने बताया कि इन दिनों इवीएम की डेमो मशीन की मांग सबसे ज्यादा है। गांव के लोग इवीएम से मतदान करना नहीं जानते, इसलिए प्रत्याशी इवीएम डेमो मशीन ही खरीद रहे हैं। चार प्रकार की डेमो मशीन आई हुई हैं, जिसमें प्रत्याशी के आगे बटन दबाने पर बीप की आवाज भी आती है।
एक समय था जब पचंायत राज चुनाव में बेलैट पेपर का ही प्रयोग होता था, लेकिन अब चुनाव प्रचार सामाग्री की दुकानों पर ये बैलेट पेपर शो पीस बने हुए हैं। घंटाघर पर चुनाव सामग्री के विक्रेता गौरव जैन ने बताया कि इन दिनों भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस, निर्दलीय का चुनाव सामग्री छल्ले, झंडे, टॉपी, गले के पटटे, स्टिकर व बिल्ले खूब बिक रहे हैं, लेकिन बैलेट पेपर की मांग ना होने से इनकी ब्रिकी नहीं हो रही है।
पंचायत राज का एक चरण पूरा होने के बाद अब दूसरे चरण की तैयारियां चल रही है। दूसरे चरण का चुनाव 22 जनवरी को होगा। इसके लिए प्रत्याशी व उनके समर्थक जोर शोर से चुनाव प्रचार में लगे हुए हैं। इस बार अलग अलग चरण में चुनाव होने से समर्थकों को अलग अलग जगह जाकर चुनाव प्रचार करने का मौका मिल रहा है।

[MORE_ADVERTISE1]