स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हत्यारे को जीवन भर रहना पड़ेगा सलाखों के पीछे

Kailash Chand Sharma

Publish: Dec 11, 2019 18:29 PM | Updated: Dec 11, 2019 18:29 PM

Alwar

हत्यारे को जीवन भर रहना पड़ेगा सलाखों के पीछे


तीन को भी मिली बुरे कर्म की सजा
अलवर. अपर जिला एवं सैशन न्यायाधीश संख्या-१ सरिता स्वामी ने हत्या के मामले में एक जने को आजीवन कारावास और तीन जनों को छह-छह माह की सजा व अर्थदण्ड की सजा सुनाई।
अपर लोक अभियोजक भूपेन्द्र सिंह शेखावत ने बताया कि १८ अक्टूबर २०१६ की दोपहर रहीस और उसका बसीर खेत में प्याज उखाड़ रहे थे। उसी दौरान मालाखेड़ा के पृथ्वीपुरा निवासी महेन्द्र व बंटी पुत्रान जुम्मा खां, शेर मोहम्मद पुत्र रहमत और नसीबन पत्नी रहमत ८-१० लोगों के साथ खेत पर पहुंचे। गाली-गलौज करते हुए बसीर के सीने में चाकू घोंप दिया तथा मुबीना, रसीद व छोटी के साथ लाठियों से मारपीट की।
गंभीर घायल बसीर की उपचार के दौरान निजी अस्पताल में मौत हो गई। मामले की जांच तत्कालीन मालाखेड़ा थानाधिकारी मुकुट बिहारी शर्मा ने कर चारों के विरुद्ध न्यायालय में आरोप पत्र पेश किया। सोमवार को न्यायाधीश सरिता स्वामी ने अभियोजन और बचाव पक्ष के वकीलों को सुनने के बाद अभियोजन साक्ष्य से आरोप सिद्ध मानकर बंटी पुत्र जुम्मा को आजीवन कारावास और २५ हजार रुपए अर्थदण्ड आदेश सुनाया।
वहीं महेन्द्र, शेर मोहम्मद और नसीबन को ६-६ माह की सजा व एक-एक हजार रुपए जुर्माना आदेश सुनाया।

[MORE_ADVERTISE1]