स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बहरोड़ थाने में एफआईआर से आगे नहीं बढ़े चोरियों के राज

Pradeep kumar yadav

Publish: Sep 16, 2019 02:14 AM | Updated: Sep 16, 2019 02:14 AM

Alwar

दो तीन माह में हुई चोरियों के मामले में पुलिस के हाथ अभी तक खाली


अलवर. बहरोड़ थाना क्षेत्र में पिछले तीन माह में लगातार हुई आधा दर्जन से अधिक चोरी की वारदातों में पुलिस ने खुलासा नहीं करने से पुलिस का ध्येय आमजन में विश्वास अपराधियों में भय उल्टा नजर आ रहा है।
थाना क्षेत्र में हुई चोरी की घटनाओं को लेकर हालात यह है कि पुलिस ने चोरी की घटनाओं के बाद प्रकरण को फाइलों में ही दफन किए जा रहे है न तो एक भी आरोपी पकडऩे ना ही माल बरामद किया गया। ऐसे में पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर आमजन उसे कटघरे में खड़ा कर रहा है। खास बात यह है कि बहरोड़ थाना क्षेत्र में पिछले दो तीन माह में आधा दर्जन से अधिक चोरी की वारदातें हुई। जिनमे से पुलिस ने एक भी वारदात का खुलासा नहीं किया है। बहरोड़ कस्बे में ही असमय होने वाली वारदातों को रोकने के लिए कई दर्जन कैमरे लगे हुए और पुलिस ने रात्रि गश्त भी की जाती है लेकिन उसके बाद भी आजतक एक चोर को नहीं पकड़ सकी।
१३ लाख की चोरी का नहीं हुआ खुलासा
शहर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में हुई विभिन्न चोरी की घटनाओं को लेकर पुलिस ने अभी तक कोई बड़ा खुलासा नहीं किया है। शहर में हुई चोरी की घटना में सबसे अधिक चौकाने वाली बात यह है कि पुलिस थाने से महज दो सौ मीटर दूरी पर एक दुकान से चोरी होती है लेकिन पुलिस को कुछ नहीं पता चलता है। ऐसा ही घटनाक्रम थाना क्षेत्र के कांकरदोपा गांव में पिछले माह हुई 13 लाख से अधिक रुपए व जेवरात की वारदात के बाद भी पुलिस के हाथ खाली है। वही अभी कुछ दिन पूर्व ही निभोर पुलिस चौकी के पास ही स्थित गांव गुगडिय़ा में एक सुने मकान को चोरों ने अपना निशाना बनाया था और पांच छह लाख रुपए के जेवरात व नकदी लेकर फरार हो गए थे। ऐसी बड़ी घटना घटित होने के बाद भी पुलिस ने सिर्फ एफआईआर दर्ज कर प्रकरण को सिर्फ फाइलों में ही कैद कर दिया गया।
आखिर कमी कहां पर
पुलिस ने अपने तंत्र व मुखबिर तंत्र की मजबूती के दावे किए जाते है ओर पुलिस के आला अधिकारियों ने अक्सर ये कहते हुए सुना जाता है कि क्षेत्र बिल्कुल सुरक्षित व अपराध मुक्त है। लेकिन पुलिस ने पिछले दिनों हुई सिलसिलेवार चोरी की घटनाओं के बाद एक भी चोरी की घटनाओं का खुलासा नहीं होना पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़े कर रहे है।