स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट शाम 4 बजे पहुंचेंगे भिवाड़ी, कथित मॉब लिंचिंग में मारे गए हरीश जाटव के परिवार से करेंगे मुलाकात

Lubhavan Joshi

Publish: Aug 21, 2019 14:48 PM | Updated: Aug 21, 2019 14:48 PM

Alwar

Sachin Pilot In Bhiwadi : प्रदेश के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ( sachin pilot ) भिवाड़ी कथित मॉब लिंचिंग पीडि़त परिवार से मुलाकात करेंगे।

अलवर. Sachin Pilot In Bhiwadi To Meet Mob Lynching Victim Family : प्रदेश के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ( sachin pilot ) बुधवार शाम 4 बजे ( bhiwadi ) भिवाड़ी के झिवाणा पहुंचेंगे। ( bhiwadi mob lyncing ) सचिन पायलट झिवाणा में कथित मॉब लिंचिंग का शिकार हुए हरीश जाटव के परिवार से मुलाकात करेंगे। डिप्टी सीएम पायलट सडक़ मार्ग से भिवाड़ी के झिवाणा पहुंचेंगे। भिवाड़ी के झिवाणा में 16 जुलाई को हरीश जाटव की कथित मॉब लिंचिंग में मौत हो गई थी। इसके बाद पुलिस कार्रवाई से निराश होकर हरीश के पिता रतीराम जाटव ने आत्महत्या कर ली थी। तभी से इस मामले ने काफी तूल पकड़ा। भाजपा व गांव के लोगों ने धरना दिया। धरने व मांगों के कारण उनका पोस्टमार्टम तीसरे दिन हुआ। अब पीडि़त परिवार से मिलने के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री सचिन पायलट आ रहे हैं।

पीडि़त परिवार से प्रशासन के सामने रखी यह मांगे

कथित मॉब लिंचिंग में हरीश जाटव की मौत के बाद उसके पिता रतीराम ने आत्महत्या कर ली। इसके बाद पीडि़त परिवार के साथ भाजपा नेताओं ने धरना दिया। पीडि़त पक्ष ने प्रशासन के सामने हरीश जाटव की पत्नी को सरकारी नौकरी, 1 करोड़ रुपए या 5 बीघा जमीन, 5 लाख रुपए देने, भिवाड़ी एएसपी व डीएसपी का तबादला करने सहित अन्य मांगें प्रशासन के समक्ष रखी, अलवर जिला कलक्टर इंद्रजीत सिंह ने बताया कि परिवार की मांगों को सरकार के समक्ष रखा जाएगा। मांगों को लेकर समय सीमा तय नहीं की गई है। अब उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट पीडि़त परिवार से मिलने जा रहे हैं तो वे परिवार को सहायता देने की घोषणा कर सकते हैं।


यह है प्रकरण

चौपानकी थाना इलाके के गांव झिवाणा निवासी हरीश जाटव पुत्र रतिराम जाटव 16 जुलाई की रात को फलसा गांव में गंभीर घायल व अचेत अवस्था में पड़ा मिला। पुलिस ने उसे भिवाड़ी सीएचसी में भर्ती कराया। हालत गंभीर होने पर परिजन उसे इलाज के लिए दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल ले गए। वहां 18 जुलाई को हरीश की मौत हो गई। इससे एक दिन पहले 17 जुलाई को पिता रतिराम ने फलसा गांव के कुछ लोगों के खिलाफ बाइक भिडऩे की बात पर हरीश के साथ गंभीर मारपीट करने का प्रकरण दर्ज कराया। वहीं, दूसरे पक्ष के जमालुदीन ने अपनी पत्नी हकीमन को बाइक से टक्कर मारने का मामला हरीश के खिलाफ दर्ज कराया था। इसके करीब 1 माह बाद पुलिस की कार्यप्रणाली से निराश होकर हरीश के पिता रतीराम ने आत्महत्या कर ली थी।