स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नगर निकाय चुनाव से पहले आई बड़ी खबर, लाखों लोगों का वार्ड बदल गया, पता नहीं किया तो नहीं डाल पाएंगे वोट

Lubhavan Joshi

Publish: Sep 20, 2019 15:23 PM | Updated: Sep 20, 2019 15:23 PM

Alwar

Rajasthna Nagar Nikay Elections : नगर निकाय चुनाव में आप वोट नहीं डाल पाएंगे, अगर आपने बीएलओ से अपना वार्ड कन्फर्म नहीं किया।

अलवर. Rajasthna Nagar Nikay Elections : दिसम्बर माह में होने वाले नगर निकाय चुनाव में कई लाख वोटर अपने शहर की सरकार को चुनने से वंचित रह सकते हैं। प्रदेश में वार्ड पुर्नसीमांकन के बाद लाखों वोटरों के वार्ड बदल गए हैं लेकिन, मतदाता सूचियों में दुरुस्तीकरण अधूरा रहा तो वोट के दिन पता चलेगा कि मतदाता का सूची में नाम ही नहीं है। या फिर पुनर्सीमांकन दूसरे वार्ड में हो गया और उनका नाम पुराने वार्ड की मतदाता सूची से नहीं हटाया। यह गफलत बड़े स्तर पर संभव है।

प्रदेश के नगर निगम और नगर परिषद क्षेत्रों में लोगों के वार्डों में बदलाव किया गया है। जिसकी जानकारी अभी आमजन को तो दूर पार्षदों को भी नहीं है। मतदाता सूचियों का दुरुस्तीकरण डोर टू डोर नहीं होने से गलती होने की बड़ी संभावना है।

अभी जनता को नहीं पता

वार्ड पुनर्सीमांकन तो कर दिया लेकिन, आमजन को नहीं बताया गया कि किस वार्ड का कितना हिस्सा दूसरे वार्ड में शिफ्ट हो गया। जबकि वार्ड पुनर्सीमांकन का कार्य पूरा हो चुका है। उसके बाद वार्ड आरक्षण की लॉटरी भी निकल गई। लेकिन, अब तक वार्डों में किए गए बदलाव को जनता के सामने नहीं रखा है। जिसके कारण आमजन को जानकारी भी नहीं है।

बड़ी संख्या में वोटर इधर से उधर

बड़ी संख्या में वोटर इधर से उधर किए गए हैं। जैसे पुनर्सीमांकन में किसी वार्ड के 50 घरों को दूसरे वार्ड में शिफ्ट तो कर दिया लेकिन, मतदाता सूचियों में अपडेट नहीं किया तो वोटर वोट डालने से वंचित रह सकते हैं। यही नहीं इतने वोटों का फेरबदल पार्षदों के चुनाव परिणाम को भी बदल सकता है। इसलिए अभी वक्त है मतदाता को अपने वार्ड व मतदाता सूची में नाम देखने का।

दो से पांच बजे बीएलओ से जाने

22 सितम्बर तक दो से पांच बजे तक बीएलओ बूथ पर मिलेंगे। जिनसे मतदाता सूची में नाम जुड़वाने व वार्ड पुनर्सीमांकन से आए बदलाव के बारे में जान सकते हैं। चुनाव लडऩे के इच्छुक प्रत्याशियों के लिए भी यही बहुत जरूरी है। अन्यथा कहीं ऐसा नहीं हो कि वोट के दिन पता चले कि उनके काफी वोटरों का नाम ही मतदाता सूची में नहीं है। जिससे उनको बड़ा झटका लग सकता है।