स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राजस्थान पंचायत चुनाव: सरपंची की चकाचौंध के आगे फेल हुआ पंच का आकर्षण, कई वार्डों में नहीं मिल रहा एक भी उम्मीदवार

Lubhavan Joshi

Publish: Jan 15, 2020 15:04 PM | Updated: Jan 15, 2020 15:04 PM

Alwar

Rajasthan Panchayat Election: प्रदेश में पंचायत चुनाव की तैयारियां चल रही है। यहां सरपंची की चकाचौंध के आगे पंच का आकर्षण फीका सा लग रहा है।

अलवर. समाज में भले ही पंच को परमेश्वर का दर्जा मिला हो, लेकिन सरपंची पद की चकाचौंध के आगे उसका आकर्षण फीका है। यही कारण है कि पंचायत चुनाव के प्रथम चरण में कठूमर, रैणी व तिजारा पंचायत समितियों के 11 वार्ड ऐसे हैं, जहां किसी ने भी नामांकन नहीं किया, जबकि 677 वार्डों में एक ही प्रत्याशी होने के कारण निर्विरोध निर्वाचन हो गया। अब केवल 696 वार्डों में 1742 प्रत्याशियों के बीच पंच पद के लिए मुकाबला होगा, यानि ज्यादातर जगह सीधा या फिर तिकोना संघर्ष है, जबकि प्रथम चरण की 120 ग्राम पंचायतों में सरपंच पद के लिए 1001 उम्मीदवारों के बीच घमासान होगा। यानि सरपंच के एक पद के लिए 9 से 10 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं।

पंचायत चुनाव को लेकर इन दिनों गांवों में सुबह से देर रात तक लोगों के घर वोट मांगने वालों की कतार दिखाई पड़ती है, लेकिन ग्रामीणों से वोट मांगने वालों में ज्यादातर सरपंच पद के उम्मीदवार हैं। पंच पद के लिए वोट मांगने वाले प्रत्याशियों का लोगों को इंतजार ही है।

प्रथम चरण में करीब आधे पंच निर्विरोध निर्वाचित

पंच पद के प्रति लोगों में ज्यादा क्रेज नहीं होने का अंदाजा इन तथ्यों से सहज ही लगाया जा सकता है कि प्रथम चरण की कठूमर, रैणी व तिजारा पंचायत समिति में 1384 वार्डों में पंच पद का निर्वाचन होना है। इनमें करीब आधे 677 वार्डों में एक ही प्रत्याशी होने से चुनाव की नौबत नहीं आई और निर्विरोध चुनाव हो गया। वहीं 11 वार्डों में किसी भी ग्रामीण ने पंच पद का चुनाव लडऩे की इच्छा ही नहीं जताई। प्रथम चरण में केवल 696 वार्डों में 1742 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं।

[MORE_ADVERTISE1]