स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

थानों में वर्षों से अंगद की तरह पांव जमाए हुए हैं पुलिसकर्मी

Kailash Chand Sharma

Publish: Sep 22, 2019 01:40 AM | Updated: Sep 22, 2019 01:40 AM

Alwar

थानों में वर्षों से अंगद की तरह पांव जमाए हुए हैं पुलिसकर्मी


अलवर. जिले में पुलिस का इकबाल पुलिस के नुमाइंदे ही खत्म कर रहे हैं। सभी पुलिस थानों में कई पुलिसकर्मी एेसे हैं जो बरसों से यहां अंगद की तरह पैर जमाए बैठे हैं। जिनके क्षेत्र के अपराधियों से भी प्रगाढ रिश्ते हो चुके हैं। अपराधियों के साथ ये पुलिसकर्मी अवैध धंधों में लिप्त हैं और पुलिस की गुप्त सूचनाएं तक अपराधियों तक पहुंचा रहे हैं। जब तक थानों से इन अंगदों को नहीं उखाड़ा जाएगा तब तक पुलिस के विभीषण नहीं मर पाएंगे।
तबादला होता भी है तो फिर लौट आते हैं
इन पुलिसकर्मियों के पुलिस उच्चाधिकारी और नेताओं से अच्छे सम्बन्ध हैं। जिसके कारण उनका थाने से तबादला ही नहीं होता है। कोई नया अधिकारी आने पर इनका तबादला भी हो जाता है तो ये पुलिसकर्मी इधर-उधर से जुगाड़ बैठाकर फिर वहीं लौट आते हैं।
तीन साल से ज्यादा नहीं टिक सकते
पुलिस मुख्यालय के स्पष्ट आदेश हैं कि पुलिस कांस्टेबल व हैडकांस्टेबल एक थाने में ३ साल से ज्यादा पदस्थापित नहीं रह सकते, लेकिन हालात यह है कि अलवर जिले के हर थाने में पुलिस मुख्यालय के इन आदेशों की धज्जियां उड़ रही हैं। कई पुलिसकर्मी एेसे हैं जो एक ही थाने में ५-६ सालों से टिके हुए हैं।

अच्छे भी हो रहे बदनाम
थानों में कई अच्छे, ईमानदार और पुलिस के समर्पित पुलिसकर्मी भी हैं। उनका अपराधियों में पूरा खौफ भी है। पुलिस के बड़े खुलासों में भी उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रहती है, लेकिन थानों में अपराधियों से साजबाज होकर काम कर रहे पुलिसकर्मियों के कारण कुछ अच्छे पुलिसकर्मियों पर भी उंगली उठना शुरू हो जाती है।

थानागाजी और बहरोड़ में पुलिस हुई बदनाम
थानागाजी गैंगरेप और बहरोड़ थाने में एके-४७ से हमला कर लॉकअप से बदमाश छुड़ा ले जाने जैसी घटना इसी का परिणाम है। दोनों प्रकरणों में पुलिसकर्मियों की अपराधियों से संलिप्तता और लापरवाही उजागर हुई। और पुलिस को बदनामी झेलनी पड़ी। बाद में थानागाजी और बहरोड़ थाने के पूरे स्टाफ को बदलना पड़ा।
प्रक्रिया चल रही है
&पुलिस थानों में लम्बे समय से पदस्थापित पुलिसकर्मियों का स्थानांतरण करने की प्रकिया चल रही है। जल्द ही सभी थानों से एेसे पुलिसकर्मियों को स्थानांतरित किया जाएगा।
एस. सेंगाथिर, आईजी, जयपुर रेंज।