स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अलवर में बुजुर्ग से 71 लाख की ठगी का मामले में हुआ बड़ा खुलासा, इन विदेशी लोगों के गिरोह से जुड़े हैं तार

Lubhavan Joshi

Publish: Aug 19, 2019 15:17 PM | Updated: Aug 19, 2019 15:17 PM

Alwar

अलवर में बुजुर्ग से ठगी के मामले के तार नाइजीरियन गिरोह से जुड़े हैं।

अलवर. मेवात के शातिर ठगों के साथ ही अलवर में विदेशी ठग भी अपना जाल फैला रहे हैं। हाल ही पूर्व कॉलेज प्राचार्य से हुई 71 लाख रुपए की ऑनलाइन ठगी के तार भी विदेशी नाइजीरियन गिरोह से जुड़ते नजर आ रहे हैं। पुलिस कड़ी से कड़ी जोडकऱ ठगों नेटवर्क तक पहुंचने के प्रयास में जुटी हुई है।

दिल्ली और मुम्बई से चला रहे नेटवर्क

जानकारी के अनुसार शातिर नाइजीरियन गिरोह दिल्ली और मुम्बई में बैठकर ऑनलाइन ठगी, नकली नोटों की खेप खपाने और महंगे नशीले पदार्थों की तस्करी कर रहे हैं।

झांसा देकर ठग लिए थे 71 लाख रुपए

हाल ही अलवर शहर के स्कीम-8 निवासी 72 वर्षीय पूर्व कॉलेज प्राचार्य सत्यव्रत शर्मा से विदेशी महिला बनकर शातिर ठगों ने फेसबुक के माध्यम से दोस्ती गांठी। इसके बाद उन्हें अपने झांसे में लेकर मात्र 15 दिन में 71 लाख रुपए ठग लिए। पुलिस अभी मामले का खुलासा नहीं कर पाई है। उधर, अरावली विहार थानाधिकारी हरिसिंह का कहना है कि प्रकरण में जिन बैंक खातों में रुपए का ट्रांजेक्शन हुआ है उन्हें खंगाला जा रहा है। बैंक खातों के माध्यम से पुलिस ठगों तक पहुंचने का प्रयास कर रही है।

यूं फंसा रहे ठगी के जाल में

नाइजीरियन गिरोह के सदस्य विदेशी महिला के नाम से फेसबुक पर फर्जी आईडी बनाकर लोगों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजते हैं। रिक्वेस्ट स्वीकार होने पर उन्हें झांसे में लेते हैं और फिर मोबाइल नम्बर लेकर विदेशी मोबाइल नम्बरों से व्हाट्स-एस मैसेज और कॉलिंग कर बातचीत करते हैं। इसके अलावा ये गिरोह के सदस्य नकली नोटों की खेप बाजार में खपा रहे हैं। वहीं, कॉलेजों में छात्रों को महंगे नशीले पदार्थ जैसे कोकीन, स्मैक, हेरोइन, चरस आदि की सप्लाई दे रहे हैं।