स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अलवर : भिवाड़ी में अचेत मिले युवक की मौत, परिवार ने कहा मॉब लिंचिंग से मरा, पुलिस ने कहा हादसे से हुई मौत

Lubhavan Joshi

Publish: Jul 20, 2019 10:45 AM | Updated: Jul 20, 2019 10:49 AM

Alwar

( Mob Lynching In Alwar ) : अलवर के भिवाड़ी में एक युवक की मौत हुई, परिजनों ने मॉब लिंचिंग का आरोप लगाया है।

अलवर/ भिवाड़ी. Mob Lynching in Alwar : अलवर जिले के भिवाड़ी क्षेत्र के चौपानकी थाना इलाके के फलसा गांव में गंभीर हालत में अचेत मिले युवक की गुरुवार रात इलाज के दौरान दिल्ली में मौत हो गई। मृतक के परिजनों को आरोप है कि ( mob lynching ) लोगों ने उसे पीट-पीटकर मारा है, जबकि पुलिस इसे सडक़ दुर्घटना में मौत बता रही है। वही, घटना के सम्बन्ध में मृतक के परिजनों ने मारपीट व एससी/एसटी एक्ट तथा दूसरे पक्ष ने एक्सीडेंट का मामला दर्ज कराया है।

( alwar mob lynching ) जिला पुलिस अधीक्षक परिस देशमुख ने शुक्रवार को प्रेसवार्ता में बताया कि गांव झिवाणा निवासी हरीश जाटव (28) पुत्र रतिराम जाटव 16 जुलाई की देर शाम बाइक पर सवार होकर भिवाड़ी से अपने गांव झिवाणा जा रहा था। रास्ते में फलसा गांव के समीप रोड क्रॉस कर घर जा रही महिला हकीमन (55) पत्नी जमालूदीन उसकी बाइक की चपेट में आ गई। घटना की सूचना मिलने के बाद गश्त में मौजूद पुलिस मौके पर पहुंची। वहां लोगों की भीड़ लगी हुई थी। एक व्यक्ति घायल अवस्था में अचेत पड़ा हुआ था तथा पास ही उसकी मोटरसाइकिल पड़ी हुई थी। मोबाइल के आधार पर उसकी पहचान झिवाणा निवासी हरीश जाटव के रूप में हुई। पुलिस ने घायल को भिवाड़ी सीएचसी में भर्ती कराया। वहीं, महिला को उसके परिजन पहले ही इलाज के लिए ले गए। भिवाड़ी सीएचसी से प्राथमिक उपचार के बाद परिजन हरीश को इलाज के लिए दिल्ली सफदरजंग अस्पताल में ले गए। जहां इलाज के दौरान गुरुवार रात उसकी मौत हो गई।

इसकी सूचना मिलते ही यहां से पुलिस टीम दिल्ली के लिए रवाना की गई। पोस्टमार्टम की कार्रवाई के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। प्रथम दृष्टया मॉब लिंचिंग जैसी कोई बात सामने नहीं आई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही सबकुछ स्पष्ट हो सकेगा। घटना के सम्बन्ध में दर्ज दोनों प्रकरणों में भिवाड़ी डीएसपी देवेन्द्र सिंह अनुसंधान कर रहे हैं।

मारपीट की

चौपानकी के झिवाणा गांव निवासी रतिराम पुत्र बद्दल जाटव ने 17 जुलाई को चौपानकी थाने में प्रकरण दर्ज कराया कि उसका पुत्र हरीश जाटव 16 जुलाई की शाम 7 बजे झिवाणा गांव से भिवाड़ी आ रहा था। फलसा गांव के उमरशेर के घर के पास उसकी बाइक किसी अन्य व्यक्ति से भिड़ गई। वहां पर उमरशेर ठेकेदार व कई अन्य व्यक्तियों ने हरीश के साथ मारपीट की। जिससे हरीश के सिर में गंभीर चोट आई और वह गंभीर रूप से घायल हो गया।

टक्कर मारी

वहीं, दूसरे पक्ष के जमालूदीन पुत्र नूरमोहम्मद ने 17 जुलाई को रिपोर्ट दर्ज कराई कि 16 जुलाई की रात 8.30 बजे उसकी पत्नी हकीमन अपने घर के सामने रोड पार कर रही थी। इसी दौरान बाइक पर भिवाड़ी की तरफ से तेज स्पीड में आए बाइक चालक हरीश जाटव ने उसकी पत्नी हकीमन को टक्कर मार दी। जिससे वह बहोश होकर गिर गई। बाइक चालक शराब के नशे में धुत था, जो बाइक से सडक़ पर गिर गया और उसके जगह-जगह चोट आई थी।

अलवर में फिर मॉब लिंचिंग, युवती को टक्कर मारने पर उसके परिजनों ने युवक को पीटा, इलाज के दौरान मौत

पिता-भाई ने बताई मॉब लिंचिंग

( mob lynching in alwar ) मृतक हरीश के पिता रतीराम जाटव एवं भाई ने चीख-चीखकर मॉब लिंचिंग का मामला बताया है। उनका कहना है कि हल्की सी बाइक भिड़ी थी। उस दुर्घटना से किसी की मौत नहीं हो सकती। बाइक पर खरोंच तक नहीं आई है और ना ही बाइक से टकराई हकीमन को कोई गंभीर चोट आई है। दुर्घटना के बाद हकीमन के परिजनों ने एकत्र होकर हरीश से जमकर मारपीट की, जिससे उसकी मौत हुई है।

एसपी ने मॉब लिंचिंग को सिरे से नकारा

चौपानकी के फलसा गांव में मंगलवार रात घायल अवस्था में अचेत मिले हरीश जाटव की मौत की खबर शुक्रवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। मॉब लिंचिंग में युवक की मौत की खबरें सामने आने लगी। जिसे देख जिला पुलिस अधीक्षक परिस देशमुख तुरंत मीडिया से मुखातिब हुए। एसपी ने प्रेसवार्ता कर मीडिया को घटना की जानकारी दी तथा
घटना से जुड़े तथ्यों के आधार पर मॉब लिंचिंग की बात को सिरे से नकार दिया।

क्या है मॉब लिंचिंग

अपर लोक अभियोजक योगेन्द्र सिंह खटाणा के अनुसार पांच या पांच से अधिक विधि विरुद्ध जमाव के सदस्यों के द्वारा समान उद्देश्य से कानून अपने हाथ में लेकर किसी व्यक्ति पर किया गया हमला मॉब लिंचिंग है। मॉब लिंचिंग का अर्थ है भीड़ तंत्र के द्वारा किया गया अपराध है, जो कि सभ्य लोकतांत्रिक समाज में बड़ा अपराध है। जहां कानून का राज हो वहां ऐसे अपराध लोकतंत्र के लिए घातक हैं।

सडक़ हादसे में घायल हरीश की इलाज के दौरान मौत हो गई है। परिजनों ने एसपी के नाम ज्ञापन के रूप में कुछ मांग की हैं। जिसमें निष्पक्ष जांच और मृतक हरीश के बच्चों को मदद की मांग की है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर निष्पक्ष जांच की जाएगी।
-देवेंद्रसिंह राजावत, डीएसपी भिवाड़ी