स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दीपावली पर मिठाइयों के शौकीनों के पेट में समा जाएगा कई टन यूरिया और डिटर्जेंट

Subhash Raj

Publish: Oct 23, 2019 13:00 PM | Updated: Oct 23, 2019 13:00 PM

Alwar

अलवर. दीपावली पर नकली दूध और मावे के लिए देश भर में बदनाम अलवर के दूध उत्पादक कई टन यूरिया, डिटर्जेंट, बोरिक पावडर मिठाइयों के शौकीनों को खिला देंगे और प्रशासन रस्मी कार्रवाई करके हाथ झाड़ कर खड़ा रहेगा।

दीपावली पर्व पर नकली मिठाइयों की भरमार रहती है। यदि आप को शक है कि आपके क्षेत्र में बिकने वाली मिठाई और दूध मिलावटी है तो आप भी इनकी जांच अपने स्तर पर करवा सकते हैं। कोई भी नागरिक यह जांच स्वयं अपने स्तर पर ही करवा सकता है।
यदि कोई व्यक्ति अपने स्तर पर मिठाइयों व दूध में मिलावट की जांच करवाना चाहते हैं तो वे मिठाई या दूध को जांच के लिए यहां दे सकता है। इस जांच के लिए आपको एक हजार रुपए का शुल्क देना होगा। वैसे तो जांच का निर्धारित समय तो 15 दिवस का निर्धारित किया गया है लेकिन इस जांच में इस अवधि से अधिक का समय लग जाता है। अलवर जिले में प्रतिदिन कई दर्जन खाद्य पदार्थों के सेम्पल लिए जा रहे हैं।
यदि कोई व्यक्ति सरकारी स्तर पर भी मिठाइयों की जांच करवा सकता है। मुख्य खाद्य निरीक्षक हारून खान ने बताया कि यदि किसी व्यक्ति को मिठाई मिलावट होने का संदेह है तो वे चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग को लिखित व मौखिक शिकायत कर सकते हैं जिस पर तत्काल ही जांच की जाएगी।
राजकीय सामान्य चिकित्सालय में संचालित खाद्य प्रयोगशाला में चिकित्सा विभाग की ओर से लिए जाने वाले खाद्य पदार्थों के नमूनों की जांच होती है। इन नमूनों का परिणाम भौतिक व मानवीय संसाधनों की कमी के चलते आने में काफी समय लग जाता है। खाद्य पदार्थों के नमूने फेल होने पर न्यायालय की ओर से आर्थिक व सजा भी दिए जाने के कार्य में तेजी आई है।
आप भी कर सकते हैं अपने स्तर पर जांच-
बर्फी में मिलावट की जांच करने का बेहतर तरीका यह है कि आप एक बर्तन में पानी उबालें और उसमें बर्फी के एक टुकड़े को डाल दें और बर्फी को उबलने दें। कुछ देर बार इसे ठंडा कर लें और फिर इसमें थोड़ा सा आयोडिन मिलाएं और दोबारा उबालें। यदि बर्फी में स्टार्च मिलाया गया होगा तो इसका रंग नीला हो जाएगा और अगर बर्फी शुद्ध होगी तो इसके रंग में कोई परिवर्तन नहीं होगा।
जिन मिठाइयों में मिलावट होती है उन्हें सूंघने पर अजीब तरह की गंध आती है। मिठाई का स्वाद खट्टा लगे तो इसमें मिटावट है। इसलिए पहले मिठाई को सूंघे और यदि मिठाई से अजीब और बासी गंध आ रही हो तो उसे नहीं खरीदें
इसी प्रकार आधा कप दूध लें और बराबर मात्रा में पानी मिला लें अगर इसमें झाग बन जाए तो समझ जाइए कि इसमें डिटर्जेंट मिला हुआ है। अगर दूध में सिंथेटिक है तो जब आप इसे गर्म करेंगे तो ये हल्का पीला हो जाएगा।
दूध में पानी की मिलावट की जांच करने के लिए दूध की कुछ बूंदे उल्टी प्लेट पर गिराएं अगर बूंद गिरते समय निशान छोड़े तो मिलावट नहीं है और अगर निशान ना पड़े तो समझ जाइए कि मिलावट है।
खोये पर अगर फिल्टर आयोडीन की 2-3 बूंदे डालें इससे वो काला पड़ जाए तो समझ जाएं कि इसमें मिलावट है।