स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बानसूर में अधिवक्ताओं का अनिश्चितकालीन धरना शुरू

Shyam Sunder Sharma

Publish: Sep 18, 2019 17:47 PM | Updated: Sep 18, 2019 17:47 PM

Alwar

नीमूचाना क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले राजस्व गांवों को नारायणपुर तहसील में जोडऩे का विरोध


अलवर. बानसूरअभिभाषक संघ एवं तहसील बचाओं संघर्ष समिति की ओर से क्षेत्र के गांव ज्ञानपुरा व नीमूचाना क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले राजस्व गांवों को नारायणपुर तहसील में जोडऩे के विरोध एवं बानसूर एवं हरसौरा थाने को भिवाड़ी के अधीन किए जाने को लेकर मंगलवार से अभिभाषक संघ अध्यक्ष अनिल यादव की अगुवाई में अधिवक्ताओं ने अनिश्चितकालीन धरने एवं कलम डाऊन हडताल शुरु की।
धरने को संबोधित करते हुए अधिवक्ताओं ने मांगे पूरी नहीं होने तक धरना जारी रखने का निर्णय किया। धरने पर बैठे अधिवक्ताओं ने आगामी रणनीति पर चर्चा की। धरने को समस्त स्टांप विक्रेता, डीड राईटर, सरपंचों एवं कई संगठनों ने समर्थन दिया।। इससे पूर्व सोमवार को अधिवक्ताओं ने एसडीएम राकेश कुमार मीणा को जिला कलक्टर के नाम का ज्ञापन सौंपकर ज्ञानपुरा एवं नीमूचाना के अन्र्तगत आने वाले राजस्व गांवों बानसूर तहसील कार्यालय के अधीन ही रखने की मांग की थी। गौरतलब है कि भिवाडी से बानसूर की दूरी करीब सौ किलोमीटर है। वहीं राजस्व गांव ज्ञानपुरा एवं नीमूचाना को तहसील नारायणपुर में जोडने से इन गांवों के ग्रामीणों में भारी रोष है। धरने में नोटरी अधिवक्ता भी शामिल रहे। अधिक्ताओं के धरने से पक्षकारों के रोजमर्रा के कार्य प्रभावित हुए। वहीं पक्षकार दिनभर तहसील
एवं न्यायालय परिसर में चक्कर काटते रहें।