स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रोड पर भट्टियां, हिट एण्ड रन का हो रहा इन्तजार

Dharmendra Yadav

Publish: Dec 06, 2019 19:22 PM | Updated: Dec 06, 2019 19:22 PM

Alwar

यूआईटी के अतिक्रमण निरोधक दस्ते ने सवा साल पहले अतिक्रमण हटाने को सख्ती दिखाई, उसके बाद और अधिक अतिक्रमण हो गया

 

अलवर.

केन्द्रीय कारागृह के सामने से लेकर राठ नगर टी प्वाइंट तक रोड के दोनों तरफ सब अस्त-व्यस्त है। रोड पर सफेद पट्टी तक नहीं है और हर जगह अतिक्रमियों के कब्जे हो गए हैं। जो मन चाहे जहां अपनी दुकान जमा कर बैठा है। कुछ बड़े दुकानदारों ने तो अति कर दी। दुकान के आगे भट्टियां, काउंटर सहित पूरी जगह रोक ली। करीब सवा साल पहले यूआईटी के अधिकारियों ने दुकानदारों केा अतिक्रमण हटाने की चेतावनी दी थी। कुछ जगहों से अतिक्रमण हटाने का प्रयास भी किया। हल्का सा विरोध होने पर दस्ता वापस आ गया था। उसके बाद अब तो पहले से अधिक अतिक्रमण हो गया है। जिससे आमजन परेशान हैं।

नालों पर पार्र्किंग, रोड पर भट्टियां

जेल चौराहे से लेकर बुध विहार तक मुख्य रोड पर बड़ा नाला है। जिस पर बड़ा अतिक्रमण है। अधिकतर जगहों पर नाले को पाट दिया। कुछ ने नाले पर पार्र्किंग बना दी। कुछ ने पक्का निर्माण कर दिया। नाले को समतल कर रोड तक पूरी जगह कब्जे में कर ली है। यही नहीं बुध विहार मोड़ पर तीन बड़ी मिठाई की दुकान हैं। जिनकी भट्टियां रोड पर चलती हैं। इसके अलावा दुकान का सामान रोड पर जमा दिया जाता है। फिर आगे वाहन खड़े हो जाते हैं। आमजन को निकलने को थोड़ी सी जगह मिलती है।

मूंगफली का बाजार रोड पर

शिवाजी पार्क के सामने मूंगफली बाजार तो पूरा रोड पर जम गया है। यहां आने वाले ग्राहक और उनके वाहन रोड पर खड़े करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। जिससे वाहन चालकों को मुश्किल होती है। कभी तेजी से आते वाहनों से हिट एण्ड रन होने का डर बना हुआ है। कई जगहों पर अतिक्रमण बेलगाम है। जिससे बड़ी दुर्घटना का अंदेशा बना हुआ है।

जहां पुलिस वहीं सबसे ज्यादा कब्जे

राठ नगर टी प्वाइंट पर दिन-रात पुलिस दिख जाती है और इसी जगह पर सबसे अधिक अतिक्रमण है। करीब दो दर्जन से अधिक खोखे, रेहड़ी व जमीन पर अवैध कब्जे हैं। जिनकी दुकानें रोड पर लगती है। महाराजा भर्तृहरि पनोरमा के आगे इतना अतिक्रमण हो गया कि पनोरमा नजर ही नहीं आता है। मतलब कोई रोक-टोक नहीं है। आए दिन यहां रोड किनारे नए खोखे व दुकानें जमती है। किसी की कोई मॉनिटरिंग नहीं होती है।

शराब की दुकानों के पास मुर्गे रोड पर

इसी रोड पर शिवाजी पार्क के सामने शराब की दुकानों के अगल-बगल में मांस व मुर्गे की दुकानें रोड पर लगती है। आसपास कई जगह कबाड़ बिखरा है। एक-दो जगहों पर गाय-भैंस व बकरी भी रोड पर बांधी जाती है। बैंक व अन्य व्यसावसायिक भवनों के आगे वाहनों की कतार रहती है। जो पूरे रोड को रोक लेते हैं।

जेल सर्किल पर ई-रिक्शा, ऑटो, रेहड़ी व खोखे

जेल चौराहे पर तीनों तरफ हॉर्डिंग की साइट लगी है। उनके आगे ई-रिक्शा व ऑटो खड़े हो जाते हैं। अगल-बगल में दर्जनों की संख्या में रेहड़ी, खोखे व चाट की दुकानें लग जाती है। होटल की तरह बड़ी जगह रोक लेने से पूरा सर्किल रूक जाता है। जिससे यातायात प्रभावित होता है।

जिम्मेदार का जवाब

अभी समझाइश करके अतिक्रमण हटाने के प्रयास कर रहे हैं। हमारी पूरी टीम प्रमुख रोड के दुकानदारों से समझाइश में लगी हुई है। इसके बावजूद भी अतिक्रमण नहीं हटाया तो कार्रवाई की जाएगी। जल्दी निर्णया किया जाएगा।

प्रमोद शर्मा, अतिक्रमण निरोधक अधिकारी, यूआईटी अलवर

[MORE_ADVERTISE1]