स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

चार हजार की रिश्वत लेते हेड कांस्टेबल गिरफ्तार

Pradeep kumar yadav

Publish: Dec 07, 2019 05:00 AM | Updated: Dec 07, 2019 03:07 AM

Alwar

मारपीट के मामले में नाम निकालने के मामले में मांगी थी रिश्वत

अलवर/कठूमर. एसीबी की टीम ने शुक्रवार सुबह स्थानीय पुलिस थाने में कार्यरत हेड कांस्टेबल प्रताप सिंह को मारपीट के मामले में नाम निकालने को लेकर चार हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए थाने की छत पर रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार होते ही आरोपी का रक्तचाप बढ़ गया। जिस पर एसीबी टीम ने मौके पर ही सरकारी डॉक्टर को बुलाकर स्वास्थ्य की जांच कराई और आवश्यक उपचार कराया।
एसीबी के डीएसपी सलेह मोहम्मद ने बताया कि एसीबी कार्यालय में कठूमर थाना क्षेत्र के गांव मुडिया निवासी देवेंद्र सिंह ने 30 नवंबर को आकर परिवाद प्रस्तुत किया कि 12 नवंबर को उनके चाचा विजय सिंह व नाहर सिंह ने क्षेत्र को लेकर आपस में झगड़ा हो गया था। दोनों ने एक-दूसरे खिलाफ मारपीट के मामले कठूमर थाने में दर्ज कराएं। इन मामलों में उसका व उसके भाई का नाम भी शामिल है। इन दोनों मामलों की जांच हेड कांस्टेबल प्रताप सिंह कर रहा है। इस मामले में पिछले पांच-सात दिन से घर जाकर हम को गिरफ्तार करने की धमकी दे रहा है। और इस मामले मे परिवादी देवेंद्र सिंह एवं उसके भाई के नाम निकालने को लेकर बीस हजार रुपए की रिश्वत मांगी। लेकिन इतनी राशि देने से मना कर दिया। और मामला पांच हजार रुपए में तय हुआ। इस पर हेड कांस्टेबल ने एक दिसंबर को उनके घर पर जाकर रिश्व की राशि एक हजार रुपए लेकर आया। एसीबी टीम ने इसका सत्यापन मौके पर कराया और शेष राशि चार हजार रुपए अगले दिन कठूमर कस्बे के बाजार में देना तय हुआ लेकिन आरोपी ने दो दिसंबर को यह रिश्वत नहीं ली। इसके बाद 5 दिसंबर को परिवादी देवेंद्र सिंह को फोन किया। अगले दिन 6 दिसंबर को रिश्वत की शेष राशि चार हजार रुपए देने के लिए कठूमर थाने पर बुलाया। परिवादी कठूमर थाने में चार हजार रुपए लेकर पहुंचा तो हेड कांंस्टेबल प्रताप सिंह ने थाने की छत पर चार हजार रुपए ले लिए और लोअर की जेब में रख लिए। इतने में ही परिवादी ने थाने में मौजूद एसीबी टीम को इशारा किया तो एसीबी टीम ने हेड कांस्टेबल को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया।

[MORE_ADVERTISE1]