स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पहली बार रिंग रेसलिंग में आमने-सामने होंगे भारत-पाकिस्तान, राजस्थान के गोपाल शर्मा करेंगे पाकिस्तानी रेसलर का सामना

Lubhavan Joshi

Publish: Sep 18, 2019 10:14 AM | Updated: Sep 18, 2019 10:14 AM

Alwar

India VS Pakistan Wrestling Match : भारत के गोपाल शर्मा पाकिस्तान के रेसलर बिलाल खान से फाइट लड़ेंगे। नेपाल के काठमांडू में यह फाइट होगी।

अलवर. India VS Pakistan Wrestling Match : भारत बनाम पाकिस्तान, दोनों देशों के बीच कोई भी मुकाबला प्रशंसकों को रोमांच से भर देता है। फिलहाल अलवरवासियों का रोमांच और अधिक बढऩे वाला है क्योंकि अलवर के गोपाल शर्मा की पाकिस्तान के रेसलर से रिंग में फ्रीस्टाइल फाइट होगी। अलवर के ढुसर वाला कुआं निवासी गोपाल शर्मा 3 अक्टूबर को नेपाल के काठमांडू में पाकिस्तान के रेसलर कोवू ब्रेंडन उर्फ बिलाल खान का रिंग में सामना करेंगे। यह फाइट नेपाल महिला रेसलिंग फाउंडेशन की ओर से आयोजित की जा रही है।

गोपाल शर्मा ने बताया कि पाकिस्तान के रेसलर बिलाल खान ने उन्हें वीडियो के जरिए फाइट लडऩे की चुनौती दी थी, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया है। गोपाल ने बताया कि भारत और पाकिस्तान के रेसलर्स के बीच यह पहली फाइट होगी। डब्ल्यूडब्ल्यूई की तरह इस फ्री-स्टाइल फाइट में रेसलर चेयर, डंडे आदि का इस्तेमाल कर सकते हैं। गोपाल ने बताया कि वे इस फाइट के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। जिनसे उनकी फाइट होने वाली है वो कराची से दो बार के वल्र्ड हेवीवेट चैंपियन हैं।

ग्रेट खली की एकेडमी में ली ट्रेनिंग

गोपाल शर्मा ने जालंधर स्थित दी ग्रेट खली की एकेडमी में दो साल कड़ा प्रशिक्षण लिया और वहां कई फाइट भी लड़ी। गोपाल ने बताया कि वहां उन्हें विदेशी पहलवानों ने भी कोचिंग दी। वहां दो साल प्रशिक्षण लेने के बाद उन्होंने राजस्थान में एक एकेडमी ज्वाइन किया। वहां गोपाल ने 30 फाइट लड़ी, जिनमें से वे 25 में विजयी रहे। गोपाल ने बताया कि वे पूर्ण रूप से शाकाहर पर निर्भर हैं। दूध, दही, घी, दाल आदि उनकी डाइट में शामिल है। डाइट के अलावा वे 4 घंटे जिम और 2 घंटे कार्डियो पर पसीना बहाते हैं।

परिजनों का भी मिल रहा सपोर्ट

गोपाल ने बताया कि पाकिस्तानी रेसलर से फाइट के लिए उनके साथ उनके परिजन भी उत्साहित हैं। उनके पिता नरेन्द्र कुमार शर्मा सेना में हैं। उनके परिजन भी फाइट के लिए उनका उत्साहवर्धन कर रहे हैं। शुरुआत में जब उन्होंने रेसलिंग सीखने की बात कही, तो परिजनों ने साफ मना कर दिया। लेकिन अब परिजन भी उनका साथ दे रहे हैं। गोपाल चाहते हैं कि वे यह फाइट जीतें और अलवर व देश का नाम रोशन करें।