स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बहरोड़ थाने से पपला गुर्जर के भागने के बाद भी नहीं चेते, अब बहरोड़ जेल के पास अवैध रूप से हो रहा यह काम, सुरक्षा को बड़ा खतरा

Lubhavan Joshi

Publish: Sep 20, 2019 17:53 PM | Updated: Sep 20, 2019 17:53 PM

Alwar

बहरोड़ थाने में से पपला गुर्जर के फरार होने के बाद अब बहरोड़ जेल के पास अवैध कार्य हो रहा है।

अलवर. अलवर जिले के बहरोड़ कस्बे के उप कारागृह के पीछे नियमों के खिलाफ दो मंजिला मकान बनाया जा रहा है। भवन की अधिकारियों को बार-बार शिकायत करने के बावजूद निर्माण कार्य नहीं रुक रहा है। दो मंजिला मकान होने से जेल की सुरक्षा को खतरा बन सकता है। जबकि जेल में खतरनात अपराधी बंद हैं। हाल ही बहरोड़ थाने पर हमला कर भगाकर ले जाने के मामले में गिरफ्तार आरोपियों का उप कारागृह में रखा जा रहा है।

बहरोड़ उप कारागृह के पास दो मंजिला मकान का निर्माण कार्य चल रहा है। जबकि जेल से सटकर कोई निर्माण नहीं होना चाहिए। जेल से निर्माण लगभग दस फीट दूर होना चाहिए और दो मंजिला नहीं होनी चाहिए। साथ ही खिडक़ी-दरवाजे नहीं होने चाहिए। जबकि इस निर्माणाधीन मकान में जेल की तरफ खिडक़ी-दरवाजे निकाले हुए हैं। नियम विरुद्ध बन रहे मकान की कई बार शिकायत की गई, लेकिन निर्माण कार्य नहीं रुक रहा है।
गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले बहरोड़ हवालात में बंद हरियाणा का मोस्ट वांटेड अपराधी पपला गुर्जर को एक दर्जन बदमाशों द्वारा एके47 से बहरोड़ थाने पर हमला कर हवालात से भगा ले जाने का मामला सामने आया था। इसके बाद पपला गुर्जर के करीब 18 साथियों को एसओजी और एटीएस की ओर से गिरफ्तार किया जा चुका है, जिन्हें बहरोड़ उप कारागृह में रखा जा रहा है और पपला गुर्जर की तलाश जारी है। जेल के पास दो मंजिला मकान होने से जेल में हथियार या फिर मोबाइल सहित अन्य सामान फेंका जा सकता, जिससे जेल की सुरक्षा को खतरा है। इस ओर न तो जेल प्रशासन ध्यान दे रहा है और न ही प्रशासनिक अधिकारी।

प्रशासन को पत्र लिखा, पर कार्रवाई नहीं

जेल प्रभारी रविंद्र उपाध्याय का कहना है कि उनकी ज्वाइनिंग करने से पहले से ही यह मकान का निर्माण जारी है जो कि पूर्ण रूप से अवैध है और जेल की सुरक्षा को भी बड़ा खतरा बना हुआ है। जेल से मकान की दूरी लगभग दस फीट होने चाहिए और दो मंजिला व खिडक़ी-दरवाजे जेल की तरफ नहीं होने चाहिए। इस संबंध में उच्चाधिकारियों व उप जिला कलक्टर को लिखित में पत्र भी दिया जा चुका है। उसके बावजूद भी अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है। पपला गुर्जर जेल कांड के बाद सभी आरोपियों को बहरोड़ जेल में रखा जा रहा है, जिससे कभी भी कोई भी बड़ा हादसा होने का डर बना हुआ है, लेकिन इस तरफ अधिकारी कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं।

कार्रवाई करेंगे

शिकायतें मिली हैं कि जेल के बिल्कुल पीछे अवैध रूप से दो मंजिली मकान बन रहा है जो कि नियमों के विरुद्ध है। इसकी जांच करा कर तुरंत कार्य को बंद कराया जाएगा। जो भी कानूनी कार्रवाई होगी वह की जाएगी।
-विकास कुमार, डीआईजी जेल