स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राजस्थान पुलिस के सिंघम की बहादुरी, दिल्ली में साढ़े छह फीट के तगड़े नाइजीरियन युवक पर अकेला टूट पड़ा और दबोचकर किया गिरफ्तार

Sujeet Kumar

Publish: Aug 24, 2019 12:15 PM | Updated: Aug 24, 2019 12:15 PM

Alwar

Amar Singh Gurjar Head Constable Of Alwar Police : अलवर पुलिस की स्पेशल टीम में तैनात हेडकांस्टेबल अमर सिंह ने बहादुरी दिखाते हुए नाइजीरियन गैंग को पकड़ा है।

अलवर. अलवर पुलिस की स्पेशल टीम ने शहर में बुजुर्ग से 71 लाख रुपए की ठगी के मामले में बेहतरीन काम किया है। बुजुर्ग से नाइजीरियन ठगों ने हनी ट्रेप कर ठगी की। इसके बाद पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए साइबर सेल, स्पेशल टीम को विशेष टास्क सौंपे। जिन नाइजीरियन ठगों को कई जिलों की पुलिस पकड़ नहीं सकी, उसे अलवर पुलिस ने होशियारी व बहादुरी से गिरफ्तार कर लिया। नाइजीरियन ठगों की तलाश में सीआईयू टीम दिल्ली के महरौली इलाके में भटक रही थी। तभी वहां घूम रहे शातिर ठग नाइजीरियन एचोनम जैम्स डेस्टीनी पर सीआईयू के हैडकांस्टेबल अमरसिंह गुर्जर की नजर पड़ी। उस वक्त हैडकांस्टेबल अमरसिंह अकेला था और टीम के अन्य साथी उससे कुछ दूरी पर थे।

बहादुरी दिखाते हुए अकेले दबोचा

बहादुरी दिखाते हुए हैडकांस्टेबल अमर सिंह अकेले ही सवा छह फीट लम्बे और शरीर से मजबूत नाइजीरियन जैम्स पर टूट पड़ा। हैडकांस्टेबल और नाइजीरियन के बीच संघर्ष भी हुआ, लेकिन हैडकांस्टेबल ने नाइजीरियन को इस तरह दबोचा कि वह छुड़ाकर भाग नहीं सका। ये देख तुरंत टीम के अन्य पुलिसकर्मी दौडकऱ भागे और नाइजीरियन जैम्स को पकड़ लिया।

इस तरह नाइजीरियन गिरोह पहुंची टीम

साइक्लोन सैल ने ठगों के फेसबुक अकाउंट, मोबाइल नम्बर और बैंक खातों का डेटा निकालकर खंगालना शुरू किया। इसके बाद सीआईयू और अरावली विहार थाने की टीम ने बैंक खातों और सीसीटीवी फुटेज देखे। इसके बाद पुलिस टीम एक-एक कदम आगे बढ़ते हुए ठगी में शामिल मोबाइल सेवा सर्विस प्रदाता कम्पनी के कर्मचारी, बैंक खाताधारक और नाइजीरियनों तक पहुंची और 12 दिन की कड़ी मेहनत के बाद 22 अगस्त को पुलिस ने वारदात का खुलासा कर दिया।

नाम से खौफ खाते हैं अपराधी

अमर सिंह गुर्जर अलवर पुलिस के स्पेशल टीम में हैड कांस्टेबल है। कई शातिर गैंग व अपराधियों को गिरफ्तार करने में अमर सिंह का अहम योगदान रहा है। नाइजीरियन गैंग से पूर्व इन्होंने अंतरराष्ट्रीय घोड़ासन गैंग, ईरानी गैंग सहित अन्य शातिर अपराधियों को गिरफ्तार कर पुलिस को सफलता दिलाई है।

खुलासे में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (मुख्यालय) पुष्पेन्द्र सिंह राठौड़, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) बिशनाराम विश्नोई, पुलिस उपाधीक्षक (दक्षिण) दीपक शर्मा, अरावली विहार थानाधिकारी हरिसिंह, एएसआई विजय कुमार, सीआईयू के हैडकांस्टेबल अमरसिंह गुर्जर, कांस्टेबल मुकेश कुमार, राजाराम, कृष्ण कुमार, हरिओम, मूलचंद, अरावली विहार थाने के कांस्टेबल राकेश कुमार, रामावतार, सोनू, महिला कांस्टेबल रेखा, साइक्लोन सैल प्रभारी एएसआई सज्जनसिंह, कांस्टेबल संदीप कुमार, अवनेश, लोकेश कुमार व संजय कुमार।