स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पहलू खान मॉब लिंचिंग प्रकरण में बड़ा फैसला, कोर्ट ने सभी आरोपियों को बरी किया

kamlesh sharma

Publish: Aug 14, 2019 17:50 PM | Updated: Aug 14, 2019 22:51 PM

Alwar

Pehlu Khan Mob Lynching Case: अलवर जिले के बहुचर्चित पहलू खान मॉब लिंचिंग प्रकरण में बुधवार को एडीजे कोर्ट ने इस केस के सभी आरोपियों को बरी कर दिया है।

अलवर। Pehlu Khan Mob Lynching Case: अलवर जिले के बहुचर्चित पहलू खान मॉब लिंचिंग प्रकरण में बुधवार को एडीजे कोर्ट ने इस केस के सभी आरोपियों को बरी कर दिया है।

प्रकरण में अभियोजन पक्ष की ओर से 44 गवाह कराए गए। प्रकरण में 7 जुलाई को दोनों पक्षों की तरफ से अंतिम बहस पूरी होने के बाद न्यायाधीश सरिता स्वामी ने फैसले के लिए 14 अगस्त की तारीख पेशी तय की। उल्लेखनीय है कि प्रकरण में 7 मुल्जिमों के खिलाफ अपर जिला एवं सत्र न्यायालय संख्या-1 में सुनवाई चल रही है, जबकि दो बाल अपचारियों के खिलाफ बाल न्यायालय में सुनवाई की जा रही है।

पहलू खान मॉब लिंचिंग प्रकरण : जानिए पहलू खान मॉब लिंचिंग मामले की पूरी कहानी

यह पूरा मामला
( Pehlu Khan Mob Lynching ) एक अप्रेल 2017 को एनएच-8 पर बहरोड़ के निकट से कुछ लोग 6 पिकअप गाडिय़ों में गोवंश भरकर ले जा रहे थे। गोकशी के शक में लोगों ने पीछा कर वाहन रुकवा लिए। भीड़ ने बहरोड़ हाइवे पर ही एक पिकअप में सवार हरियाणा के जयसिंहपुरा निवासी पहलू खां और उसके अन्य साथियों के मारपीट कर दी। मारपीट में गंभीर रूप से घायल हुए पहलू खां की बहरोड़ के निजी अस्पताल में उपचार के दौरान 4 अप्रेल को मौत हो गई। घटना से देशभर में बवाल मच गया।

प्रकरण में बहरोड़ थाना पुलिस ने पहलू खां हत्याकांड के अलावा गोतस्करी के छह प्रकरण दर्ज कर गोवंश से भरे छह पिकअप वाहनों को जब्त किया था। पहलू खां हत्याकांड में पुलिस ने नामजद आरोपियों और वायरल वीडियो के आधार पर गिरफ्तारी की प्रक्रिया शुरू की। प्रकरण में पुलिस ने बहरोड़ निवासी विपिन यादव, कालूराम, दयानंद, रविंद्र कुमार, योगेश कुमार, भीम राठी व दीपक उर्फ गोलू गिरफ्तार किया। वहीं, दो बाल अपचारी निरुद्ध किए गए। पहलू खां हत्याकांड समेत अन्य छह गोतस्करी के मामलों में पुलिस न्यायालय में चालान पेश कर चुकी है।

छह जनों को सीआईडी सीबी ने दी क्लीनचिट
पहलू खां हत्याकांड मामले की जांच बाद में सीआईडी सीबी को दे दी गई। सीआईडी सीबी ने अपनी जांच में मोबाइल लोकेशन के आधार पर छह नामजद आरोपियों को क्लीनचिट दे दी थी। जबकि पहलू खां ने अपने पर्चा बयान में इन लोगों के नाम बताए थे और घटना के बाद से ये सभी फरार थे। वहीं, पुलिस ने उन पर 5-5 हजार रुपए का इनाम भी घोषित किया हुआ था।