स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गई थी विमंदित को लेने और लोगों ने मानव अंग तस्कर समझ अपनाघर आश्रम की टीम से कर दी मारपीट

Prem Pathak

Publish: Jan 18, 2020 23:31 PM | Updated: Jan 18, 2020 23:31 PM

Alwar

अलवर. शहर के अखैपुरा मोहल्ले में शनिवार को अपनाघर आश्रम की टीम एक विमंदित को लेने गई। गलतफहमी में मोहल्ले के लोगों ने टीम से मारपीट कर दी।

अलवर. शहर के अखैपुरा मोहल्ले में शनिवार को अपनाघर आश्रम की टीम एक विमंदित को लेने गई। गलतफहमी में मोहल्ले के लोगों ने टीम से मारपीट कर दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामला शांत कराया और टीम को मोहल्ले से निकालकर आई और जांच-पड़ताल के बाद छोड़ दिया। घटना के सम्बन्ध में कोई मामला दर्ज नहीं कराया गया है।
जानकारी के अनुसार विवेकानंद नगर स्थित अपनाघर आश्रम से दो सदस्य जितेन्द्र और लक्ष्मणसिंह शनिवार दोपहर अखैपुरा मोहल्ले पहुंचे और विमंदित कैलाश जाटव (40) को आश्रम लाने लगे। विमंदित के चिल्लाने से मोहल्ले के लोगों की भीड़ जमा हो गई। मोहल्ले के लोगों ने आश्रम की टीम को पकड़ लिया। मोहल्ले के लोगों ने टीम के सदस्यों को मानव अंग तस्कर समझ उनके साथ मारपीट कर दी। इसके बाद आश्रम के अध्यक्ष संतोष अरोड़ा, प्रबंधक जगदीश प्रसाद सैनी और सचिन सक्सेना वहां पहुंचे। लोगों ने उनके साथ भी धक्का-मुक्की व मारपीट कर दी। घटना की सूचना मिलते ही कोतवाली थाना पुलिस मौके पर पहुंची और समझाइश कर मामला शांत कराया। इसके बाद टीम के तीनों सदस्यों को गाड़ी में बैठाकर मोहल्ले से बाहर ले आई और फिर उन्हें छोड़ दिया।

उधर, कोतवाल अध्यात्म गौतम का कहना है कि अपनाघर आश्रम की टीम अखैपुरा मोहल्ले में विमंदित को पकडऩे गई थी। टीम के साथ लोगों ने धक्का-मुक्की कर दी थी। घटना के सम्बन्ध में किसी की तरफ से कोई मामला दर्ज नहीं कराया गया है।


बिना सूचना के आई टीम

मोहल्ले के लोगों का कहना था कि विमंदित कैलाश पिछले कई सालों से मोहल्ले में रह रहा है। उसके बारे में अपनाघर आश्रम को किसी ने कोई सूचना नहीं दी थी। टीम बिना सूचना के ही विमंदित को पकडऩे आ गई।


मारपीट की और मोबाइल छीना

अपनाघर आश्रम के प्रबंधक जगदीश प्रसाद सैनी ने बताया कि सुबह करीब 11 बजे आश्रम पर फोन आया था कि घोड़ाफेर चौराहा के समीप एक विमंदित घूम रहा है। आश्रम की टीम विमंदित को पकडऩे अखैपुरा मोहल्ले पहुंची तो मोहल्ले के लोगों ने उनके साथ मारपीट कर दी। सूचना पर वे स्वयं, आश्रम के संस्थापक अध्यक्ष संतोष अरोड़ा और सचिन सक्सेना भी पहुंचे। मोहल्ले के लोगों ने उनके साथ भी मारपीट की और आश्रम के अध्यक्ष अरोड़ा का मोबाइल छीन लिया। पुलिस उन्हें वहां से बचाकर लाई।

[MORE_ADVERTISE1]