स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

alwar letest news बदले माहौल से गड़बड़ाया सरकारी महकमों का गणित

Prem Pathak

Publish: Sep 23, 2019 06:00 AM | Updated: Sep 23, 2019 00:14 AM

Alwar

alwar letest news बढ़ती आपराधिक गतिविधियों से जिले के बदले माहौल से दूसरे सरकारी महकमें भी बच नहीं पाए हैं।

अलवर. alwar letest news बढ़ती आपराधिक गतिविधियों से जिले के बदले माहौल से दूसरे सरकारी महकमें भी बच नहीं पाए हैं। पिछले दिनों जिले में हुई आपराधिक घटनाओं से पुलिस पर कामकाज का बोझ बढ़ा, इस कारण अन्य कार्यों में लगी आरएसी व पुलिसकर्मियों को वापस बुलाना पड़ा। पुलिस की व्यस्तता का नतीजा है कि वन विभाग को पिछले महीनों अवैध खनन रोकने के लिए दी गई आरएसी की दो कम्पनी पुलिस ने वापस मंगा ली। इसी तरह बहरोड़ में कुख्यात बदमाश पपला गुर्जर को फायरिंग कर हवालात से छुड़ा ले जाने की घटना के बाद पुलिस के कई अधिकारियों व पुलिसकर्मियों को बुलाना पड़ा है। इससे दूसरे विभागों का कामकाज प्रभावित होने लगा है।
वन विभाग की भूमि पर बेलगाम होते अवैध खनन पर रोक के लिए पिछले दिनों वन विभाग के डीएफओ ने पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर आरएसी की दो कम्पनी मांगी थी। पुलिस अधीक्षक ने वन विभाग की जरूरत को देखते हुए आरएसी की दो कम्पनी भेज दी, लेकिन कुछ दिन पूर्व ही आरएसी की कम्पनियों को पुलिस ने वापस बुला लिया।

किशनगढ़बास व लक्ष्मणगढ़ में थी तैनात
वन विभाग ने आरएसी की दो कम्पनी में से एक किशनगढ़बास एवं एक लक्ष्मणगढ़ व रामगढ़ क्षेत्र में तैनात कर रखी थी। आरएसी तैनात करने से पिछले महीनों में वन विभाग की पहाडिय़ों में अवैध खनन पर कुछ हद तक रोक लग पाई थी। आरएसी तैनात करने का लाभ किशनगढ़बास में ज्यादा मिला। यहां पूर्व में खान माफियाओं की ओर से वनकर्मियों पर हमला करने की घटनाएं हो चुकी थी। आरएसी लगाने के बाद ऐसी घटनाओं में कमी आई।अचानक बुला ली वापसजिले में पिछले दिनों हुई संगीन आपराधिक घटनाओं के बाद पुलिस की ओर से अचानक आरएसी को वापस बुला लिया गया। पुलिस की मांग पर वन विभाग ने आरएसी की दोनों बटालियन को वापस भेज दिया। इससे वन विभाग के अधिकारियों के समक्ष अवैध खनन को लेकर बड़ी समस्या हो गई। वन विभाग के अधिकारियों ने पुलिस विभाग के आला अधिकारियों को पत्र भेजकर फिर से आरएसी की दो कम्पनी भेजने की मांग की है।थानों से भी बुलाए अधिकारी व कर्मचारीपिछले दिनों जिले में हुई संगीन आपराधिक घटनाओं की जांच में सहायता के लिए पुलिस थानों व अन्य कार्यालयों में तैनात पुलिस के पुराने अधिकारी व कर्मचारियों को बुलाया गया। वहीं अपराधियों की धरपकड़ के लिए कई बार आसपास के थानों के पुलिसकर्मियों को भी बुलाने की जरूरत होती है। इसका सम्बन्धित थानों के दैनिक कामकाज पर असर होना स्वभाविक है।

दोबारा पत्र लिखा है

आरएसी की कम्पनी के लिए जिला पुलिस अधीक्षक को दोबारा से पत्र लिखा है। उम्मीद है कि जल्द ही आरएसी की कम्पनी मिलेगी।
आलोक गुप्ता

डीएफओ वन मंडल अलवर