स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

'किसानों को डरा-धमकाकर कृषि भूमि पर कर रहे अवैध खनन'

Rajesh Mishra

Publish: Aug 07, 2019 17:48 PM | Updated: Aug 07, 2019 17:48 PM

Alirajpur

- ग्रामीणों ने आवेदन देकर लगाया आरोप

आलीराजपुर. जनसुनवाई के दौरान सुमेरंिसंह अजनार, कलसिंह अजनार निवासी ग्राम कस्बा जोबट ने कृषि भूमि में अवैध खनन की उच्च स्तरीय जांच कर कार्रवाई करने की मांग की है।
अजनार द्वारा सौंपे गए आवेदन में बताया, उदयगढ़ ब्लॉक के ग्राम प्रताप फलिया, ग्राम पंचायत जामली बड़ी में गिट्टी की खदान वहां के वर्तमान सरपंच कमलसिंह पिता सेकड़ीया अजनार (जो उदयगढ़ जनपद अध्यक्ष का पति भी है) के नाम से स्वीकृत सर्वे नंबर 121, 128, 129/1 रकबा 1 हेक्टेयर तथा सर्वे नंबर 122/1, 122/2, 125 कुल रकबा 0.90 हेक्टेयर है। उक्त दोनों खदानों में पांच वर्ष पूर्व ही पूर्ण गिट्टी खनन उक्त खदान मालिक ने कर ली थी।
अब चार-पांच वर्षों से स्वीकृति के सर्वे नंबर के आसपास के कृषकों की कृषि भूमि में अपने जनप्रतिनिधि पदों एवं सत्तापक्ष का होने से उन किसानों की भूमि जो लगभग दो हेक्टेयर से भी अधिक पर उन्हें डरा धमका कर दबंगता से धड़ल्लेसे अवैध खनन बिना संबधित विभाग की स्वीकृति के कर शासन की राजस्व हानि कर रहा है तथा अवैध कमाई उच्च स्तरीय विभाग से मिलीभगत एवं रिश्वत देकर अपने राजनीतिक प्रभाव से कर रहा है।
उक्त खदान मालिक कमलसिंह के विरुद्ध उदयगढ़ ब्लॉक के ग्राम खंडाला रावत के किसानोंकी भूमि पर भी दबंगता से बिना किसानों की सहमति एवं बिना विभाग की अनुमति के गिट्टी खनन की शिकायतें स्वयं प्रभावित किसानों ने 23 जुलाई को जन सुनावई में की थी। उक्त शिकायत जांच को भी अपने जनप्रतिनिधि के पद एवं सत्तापक्ष के राजनीतिक प्रभाव से दबा रखी है। उक्त दबंग अवैध खनन माफिया की उच्च स्तरीय अधिकारियों या स्वयं जांच कर उसके द्वारा किए जा रहे अवैध खनन को तत्काल प्रभाव से रोका जाए एवं अभी तक किए अवैध खनन के लिए उक्त खदान मालिक विरुद्ध आपराधिक कार्रवाई कर शासन की राजस्व हानि करने के लिए दण्डित करने की कार्रवाई कर खदान भी पूर्ण गिट्टी खनन कर लेने से निरस्त की जाए।
शासकीय भूमि पर कब्जा कर कृषि के लिए खेड़ दिया
ग्राम बावड़ीखुर्द की शासकीय पड़त भूमि पर नानसिंह पिता मनसिंह एवं साहबसिंह़ द्वारा कब्जा कर वहां पर कृषि कार्य करने की शिकायत जन सुनवाई में की गई। ग्रामीणों ने बताया, ग्राम बावड़ीखुर्द में बड़ा तालाब के पास पशुओं के लिए चरने हेतु शासकीय भूमि है। जहां पर पूर्व में रेशम उत्पादन केंद्र का निर्माण किया गया था, लेकिन कुछ कारणों से उक्त भूमि पर बने उक्त रेशम केंद्र को बंद कर दिया गया, वहीं उक्त केंद्र का रख रखाव ना हो पाने से उक्त भवन जर्जर अवस्था में हो गया था। उक्त भवन के आसपास की शासकीय भूमि पर पूर्व में भी कुछ लोगों द्वारा कृषि करने का प्रयास किया गया था, लेकिन ग्रामीणों की सजगता से उक्त जमीन पर अतिक्रमण करने से रोक लिया गया था। जमीन पर नानसिंह पिता मनसिंह एवं साहबसिंह पिता हुकम सिंगाड़ द्वारा जबरन कब्जा कर उसे कृषि कार्य के लिए खेड़ दिया है। नानसिंह गांव का चौकीदार है, जो चौकीदार होने का फायदा उठा रहा है। आवेदन के माध्यम से मांग की गई कि उक्त शासकीय जमीन पर कब्जा करने वाले उक्त लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर जमीन से कब्जा हटाया जाए।