स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

‘मुझे किसी पार्टी विशेष का विधायक न समझें, क्षेत्र का विकास ही मेरा लक्ष्य’

Rajesh Mishra

Publish: Aug 05, 2019 17:26 PM | Updated: Aug 05, 2019 17:26 PM

Alirajpur

ग्राम राजावाट, अजंदा और लक्ष्मणी में विधायक मुकेश पटेल ने बच्चों को बांटी नि:शुल्क साइकिल

आलीराजपुर. क्षेत्र के विकास और शैक्षणिक गुणवत्ता सुधार के लिए विधायक के साथ-साथ अधिकारी के रूप में अब मेरी दोहरी भूमिका रहेगी। मैं स्वयं ग्रामीण अंचल में जाकर स्कूल, छात्रावास, आश्रम की सघन मानिटरिंग करूंगा। शासकीय कार्य के निर्वहन में लापरवाही बरतने वाले और भ्रष्टाचार करने वाले कर्मचारियों को बख्शा नहीं जाएगा। क्षेत्र की जनता मुझे किसी पार्टी विशेष का विधायक न समझे। सभी लोगों के लिए मैं विधायक के रूप में जनसेवक हूं। क्षेत्र का सर्वांगीण विकास मेरा लक्ष्य है। यह बात क्षेत्रीय विधायक मुकेश पटेल ने ग्राम लक्ष्मणी में आयोजित नि:शुल्क साइकिल वितरण को संबोधित करते हुए कही। उल्लेखनीय है कि पटेल शनिवार को क्षेत्र के ग्राम फाटा, नानपुर, राजावाट, अजंदा, लक्ष्मणी पहुंचे थे, जहां पर उन्होंने स्कूल के छात्र-छात्राओं से मन लगाकर पढ़ाई कर उच्च पद हासिल करने का आह्वान किया। इस अवसर पर आलीराजपुर खंड शिक्षा अधिकारी संजय गांधी, कांग्रेसी नेता चतर सिंह भाई, कैलाश भाई, राजू भाई आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम को जिला कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष ओमप्रकाश राठौर, आशुतोष पंचोली व स्वरूप क्षीरसागर ने भी संबोधित किया।
समस्याओं का निराकरण करने का वचन दिया
विधायक ने कहा, गरीबों को न्याय दिलवाना, बिगड़ी, लचर शिक्षा व्यवस्था और स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारना मेरा प्रथम लक्ष्य है। इस दौरान पटेल ने स्कूल की समस्याओं का निराकरण करने का वचन भी दिया। प्रारंभ में विधायक की उपस्थिति में संस्था के भृत्य ने मां सरस्वती के चित्र पर दीप प्रज्ज्वलित कर माल्यार्पण किया। स्वागत भाषण संस्था के प्राचार्य गिरधर ठाकरे ने दिया। समारोह में विधायक ने स्कूली छात्र-छात्राओं को नि:शुल्क साइकिल का वितरण किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में संस्था के शिक्षक ज्योति मालवीय, जनशिक्षक खुमान सिंह डावर, भावना भिंडे, अमर सिंह कनेश, कैलाश रावत, विक्रम अलावा व अन्य का सराहनीय सहयोग रहा। संचालन बीआरसी अविनाश वाघेला ने किया। आभार वरिष्ठ अध्यापक बूटा सिंह बामनिया ने माना।