स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Smart city in ajmer : सड़कों पर मौत के गड्ढे

Himansu Dhawal

Publish: Aug 19, 2019 12:03 PM | Updated: Aug 19, 2019 12:03 PM

Ajmer

मुख्य मार्गों पर भरा बारिश का पानी : प्रशासन गिट्टी डालकर कर रहा इतिश्री

अजमेर. अजमेर के मुख्य मार्गों पर बारिश (rain) बड़े-बड़े गड्ढ़े हो गए है। ऐसे में गड्ढ़ों में बारिश का पानी भरा (Water filled) होने के कारण दुर्घटना होने का अंदेशा बना रहता है। हालांकि प्रशासन की ओर गड्ढ़ों में गिट्टी, बजरी और सीमेंट का नाममात्र का मसाला मिक्स कर इतिश्री की जा रही है। कई स्थानों पर ट्रेफिक (Traffic) के काम आने वाले बैरिकेड्स (Barricades) लगा रखे है। लेकिन गड्ढ़ों में बारिश का पानी (rain water) भरने पर वाहन चालक को वह दिखाई नहीं देते है। इससे कई बार हादसे हो चुके है। आनासागर लिंक रोड (Anasagar Link Road), सावित्री स्कूल के निकट, कचहरी रोड, जयपुर रोड (jaipur road) कांकरदा, अलवर गेट सहित कई स्थानों पर सडक़ पर गड्ढ़े हो गए है।

मेयो कॉलेज चौराहे से मेयो लिंक रोड (Mayo link road) की सडक़ बुरी तरह क्षतिग्रस्त है। मेयो कॉलेज के दीवारों से रिसकर पानी सडक़ पर जमा हो रहा है। मेयो कॉलेज सब स्टेशन (Mayo College Sub Station) के आस-पास के मकानों पर भी बारिश का पानी भरा हुआ है।

Read more : Heavy rain in ajmer : साहब! मोरी मत खुलवाओ, वर्ना हम बर्बाद हो जाएंगे

फिर धंसी पुष्कर रोड पर धंसी सडक़
पुष्कर रोड (Pushkar Road) पर पुरानी विश्रामस्थली पर एक बार फिर बड़ा गड्ढा होने से सडक़ धंस गई है। इस सडक़ (road) पर चलना खतरे से खाली नहीं हैं। इस सडक़ के एक तरफ आनासागर का पानी (Anasagar water) भरा हुआ है जबकि दूसरी तरफ सडक़ धंसी हुई है। ऐसे में लोग जोखिम के साथ सडक़ (road) पर आवाजाही कर रहे हैं। पीड्ल्यूडी (pwd) ने सडक़ के गड्ढे में गिट्टी व मिट्टी डालकर इसे बंद कर दिया है। पीडब्ल्यूडी के एक्सईएन चन्द्र प्रकाश का कहना है कि सडक़ के नीचे रेलवे की पुष्कर से अजमेर (pushaker to ajmer) आने वाली पुरानी पाइप लाइन (line pipe) है। यह लाइन बंद पड़ी है। इस लाइन के जरिए आनासागर का पानी (water) आ जाता है जिससे सडक़ धंस जाती है। बरसात रुकने व पानी कम होते ही खुदाई करवा कर इसका स्थायी समाधान किया जाएगा। यह सडक़ हर वर्ष बरसात में धंस जाती है। पूर्व में पीडल्यूडी व एडीए ने मिलकर सडक़ की मरम्मत की थी।