स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Smart city : स्मार्ट सिटी के खुले नालों में बह रही सेफ्टी टैंक की गंदगी

dinesh sharma

Publish: Sep 16, 2019 06:05 AM | Updated: Sep 16, 2019 02:47 AM

Ajmer

सेफ्टी टैंक मशीन बीच शहर में हो रही खाली, नगर निगम के अधिकारी नहीं दे रहे ध्यान

अजमेर.

साम्प्रदायिक सौहार्द की यह नगरी देश-दुनिया में विख्यात है। यहां हर साल लाखों की संख्या में पर्यटक और अकीदतमंद आते हैं। यही कारण है कि जब स्मार्ट सिटी की दौड़ शुरू हुई तो अजमेर ने अपने से कई गुना बड़े व विकसित शहरों को पटखनी देते हुए बाजी मारी।

अमरीका में भारत के प्रधानमंत्री और वहां के राष्ट्रपति ने इसे स्मार्टसिटी बनाने की घोषणा। शहर में स्मार्टसिटी परियोजनों के तहत करोड़ों रुपए के काम भी हुई पर आज भी यहां स्वच्छ भारत अभियान की धज्ज्यिां उड़ाई जा रही हैं। हालात यह हैं कि लोगों के घरों के सेफ्टी टैंक की गंदगी शहर के खुले नालों में बहाई जा रही है।

यह हालात तब हैं जब शहर को स्वच्छ बनाने और आमजन को स्वच्छता के लिए प्रेरित करने के लिए जन-जागरुकता अभियान चलाए जा रहे हैं। इसके बावजूद नगर निगम के कर्मचारियों को इससे कोई सरोकार नहीं है। नगर निगम के पास घरों के सैफ्टी टैंक खाली करने के लिए दो मशीन हैं।

एक टैंक खाली करने के एक हजार रुपए निर्धारित हैं। टैंक की गंदगी को एसटीपी में डाला जाना होता है। इसके बावजूद नगर निगम के कर्मचारी सैफ्टी टैंक की गंदगी को खुले नाले में डाल रहे हैं। नगर निगम की मशीन शहर के व्यस्ततम मार्गों में शुमार पटेल मैदान के सामने अग्रवाल स्कूल के नाले में सैफ्टी टैंक की गंदगी को खाली कर रही है, जबकि यह बहता नाला भी नहीं है। इसके बावजूद नगर निगम के अधिकारी और जनप्रतिनिधि इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं।

नगर निगम की मशीन से सैफ्टी टैंक खाली किए जाते हैं। सैफ्टी टैंक की गंदगी को एसटीपी में खाली किया जाना चाहिए। यदि कोई नाले में खाली करता है यह गलत है। इसकी जांच की जाएगी।

रूपाराम चौधरी, स्वास्थ्य निरीक्षक, नगर निगम अजमेर

दरगाह बाजार में पुलिस-व्यापारियों में तकरार

अजमेर. दुकान के बाहर सामान रखने और चालान वसूली को लेकर रविवार को दरगाह बाजार में व्यापारियों और पुलिस में तीखी तकरार हो गई। व्यापारियों ने पुलिस पर बेवजह परेशान करने का आरोप लगाते हुए नाराजगी जताई। उन्होंने जल्द उच्चाधिकारियों से मुलाकात का फैसला भी किया है।

दरगाह बाजार में कपड़े, इलेक्ट्रिॉनिक सामान, फूल और अन्य व्यापारियों की दुकान हैं। यहां तय सीमा से बाहर सामान रखने पर दरगाह थाना पुलिस चालान बनाती है। रविवार को एएसआई कानाराम जाखड़ और पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे। दो व्यापारियों के सामान तय सीमा से बाहर होने पर उन्होंने दुकानदार को बुलाया। इस दौरान व्यापारियों और पुलिसकर्मियों के बीच तीखी बहस हो गई।

READ MORE : अजमेर के सोनीजी की नसियां में ऐसी प्रतिमाएं विराजित, जिनका साल में एक बार होता अभिषेक

बेवजह करते हैं परेशान

कपड़ा व्यवसायी गोविंद नारायण ने पुलिसकर्मियों पर आए दिन व्यापारियों को परेशान की बात कही। उन्होंने दुकान और बाजार के बाहर अतिक्रमण के नाम पर 150 रुपए जुर्माना वसूली और रसीद नहीं देने का आरोप लगाया। इस पर पुलिसकर्मियों ने भी उसे शांति से बातचीत करने की हिदायत दे डाली।

ठेले वालों पर कार्रवाई नहीं

बर्तन व्यवसायी हितेश बसरानी ने बताया कि पुलिसकर्मियों ने अभद्र तरीके से उन्हें बुलाकर सामान अंदर रखने और जुर्माना जमा कराने की बात कही, जबकि पूरे दरगाह बाजार में ठेले तय सीमा से बाहर खड़े रहते हैं। इसके बावजूद पुलिसकर्मी कार्रवाई नहीं करते। नाम नहीं छापने की शर्त पर कुछ व्यापारियों ने जुर्माना रसीद नहीं देने की बात भी कही।