स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Bisalpur dam full: अजमेर को मिल सकता है 48 घंटे में पानी

raktim tiwari

Publish: Aug 19, 2019 18:04 PM | Updated: Aug 19, 2019 18:04 PM

Ajmer

बांध से प्रतिदिन अजमेर को 260, जयपुर को 400 और टोंक को 20 एमएलडी पानी की सप्लाई की जा रही थी।

अजमेर. मानसून (monsoon) की मेहरबानी से बीसलपुर बांध (bisalpur dam) छलक गया है। अजमेर, जयपुर, टोंक जिले की प्यास बुझाने वाले बीसलपुर बांध में 315.50 आरएल मीटर से ज्यादा पानी आ चुका है। इसके गेट खोल दिए गए हैं। पिछले दस महीने से 72 घंटे की कटौती झेल रहे अजमेर (ajmer)को अब 48 घंटे में पानी मिल सकता है।

अजमेर (ajmer) सहित जयपुर (jaipur) और टोंक (tonk) जिले के शहरी और ग्रामीण (urban and rural) इलाके पूर्णत: बीसलपुर बांध पर निर्भर हैं। पिछले साल कम बरसात (barsat) के चलते बीसलपुर बांध खाली रह गया था। इसके चलते विभाग ने बीते वर्ष सितंबर-अक्टूबर से ही 72 घंटे के अंतराल में पेयजल आपूर्ति (drinking water supply) शुरू कर दी थी। बांध में बीती 25 जुलाई तक महज 304.40 आरएल मीटर बचा था। बांध से प्रतिदिन अजमेर को 260, जयपुर को 400 और टोंक को 20 एमएलडी पानी की सप्लाई की जा रही थी।

read more: Bisalpur dam: बीसलपुर फुल, गेट खोलने पर हैं सबकी नजर

25 दिन में हुआ बांध लबालब
26 जुलाई 19 अगस्त तक हुई झमाझम बरसात (heavy rain in rajasthan) ने बांध को लबालब (water level increase) कर दिया है। सोमवार को बांध का गेज 315.50 आरएल पार कर गया। जलदाय विभाग ने मंत्रोच्चार के बाद इसके गेट खोल दिए। इसके साथ ही अजमेर जिले को 48 घंटे जलापूर्ति (water supply in ajmer) की संभावना भी प्रबल हो गई है। इस बारे में जलदाय मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला (Dr.B.D.kalla) ने उच्चाधिकारियों की बैठक ली। विभाग के अतिरिक्त मुख्य अभियंता पी. एल. वर्मा सहित अन्य अधिकारी इसमें शामिल हुए।

read more: Heavy rain in ajmer: भरपूर बरसात, खेतो-फसलों को मिली संजीवनी

कटौती से मिलेगी निजात
मौजूदा वक्त अजमेर जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में तीन से चार दिन में जलापूर्ति (water supply) हो रही है। बीसलपुर बांध में 315.50 आरएल मीटर से ज्यादा पानी आ चुका है। इस लिहाज से जिले को करीब तीन साल तक पेयजल संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा। लाइफ फूटने अथवा लाइन की सफाई जैसे मामलों को छोडकऱ लोगों को 72 से 96 घंटे की कटौती (water curtailment) से भी निजात मिलेगी।

read more: Heavy rain in ajmer: अजमेर के पानी से मारवाड़ को मिला जीवनदान

जरूरत नहीं पड़ेगी ट्रेन की...
जुलाई में जलदाय विभाग अजमेर जिले की आपात जलापूर्ति योजना (contingency plan) भेजा था। इसके तहत सांदला गांव के निकट बनास नदी में 50 ट्यूबवैल खोदने के अलावा नई पाइप लाइन डाली जानी थी। भीलवाड़ा से वाटर ट्रेन (water train) द्वारा अजमेर को पानी (drinkking water) मंगवाना भी शामिल था। लेकिन अब ना ट्रेन ना ट्यूबवैल (tube well) खोदने जैसी कोई जरूरत पड़ेगी।

कब-कब पूरा भरा बीसलपुर बांध (आरएल मीटर में)
2005-315.50
2006-315.50
2013-315.00
2014-315.50
2015-315.50
2016.315.50
2019-315.50