स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

साहित्य उत्सव में ऐसी लघु कथाओं की प्रस्तुति, जो दिखाती हैं आईना

Dhirendra yadav

Publish: Oct 19, 2019 16:54 PM | Updated: Oct 19, 2019 16:54 PM

Agra

लेखिकाओं द्वारा लघु कथाएं भी प्रस्तुत की गई।

आगरा। आगरा कॉलेज मैदान में आयोजित साहित्य उत्सव एवं राष्ट्रीय पुस्तक मेले में साहित्य साधिका समिति द्वारा लघु कथा और पाठक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इस अवसर पर लेखिकाओं द्वारा लघु कथाएं भी प्रस्तुत की गई।

इस तरह हुआ शुभारंभ
कार्यक्रम का शुभारम्भ मीरा परिहार ने सरस्वती वंदना के साथ किया। मुख्य अतिथि डॉ. प्रीति आनन्द ने लघु कथाओं के महत्व पर प्रकाश डाला। रमा वर्मा श्याम ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया। लघु कथा के सैद्धांतिक पत्र पर डॉ. नीलम भटनागर, डॉ. सुषमा, सुषमा सिंह व यशोधरा यादव ने प्रकाश डाला। व्यक्ति के चरित्र के विभिन्न आयोमों को उद्घाटित करती, विडम्बनों को रेखांकित करती, राजनीतिक दांव पेंचों की बखिया उधेड़ती, आर्थिक असमानता के यथार्त के दंश को अभिव्यक्त करती, निरंतर आ रही सांस्कृतिक गिरावट को रोकने का प्रयास करती लघु कथाएं प्रस्तुत भी की गई।

इन्होंने प्रस्तुत की लघु कथाएं
मुख्य रूप से डॉ. रेखा कक्कड़, सविता मिश्रा, नूतन अग्रवाल, मीना गुप्ता, पूनम जाकिर, अलका अग्रवाल, निकिता श्रीवास्तव, डॉ. शसि सिंह, विजया तिवारी, माया असोक, राजकुमारी चौहान, डॉ. पूनम तिवारी, कल्पना श्रीवास्तव, डॉ. मधु पाराशर, राजश्री आदि ने अपनी लघु कथाएं प्रस्तुत कीं। संचालन डॉ. पुनीता पचौरी, डॉ. मनिन्दर कौर कमला सैनी ने धन्यवाद दिया।