स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO: भगत सिंह ने बनाया था जिस स्थान पर बम, वहीं पर बेरोजगारों ने शुरू किया पीएम मोदी के नाम पर मोदी पकौड़ा भंडार

Dhirendra yadav

Publish: Jul 18, 2019 18:45 PM | Updated: Jul 18, 2019 18:45 PM

Agra

सरदार भगत सिंह जिस मकान में रहे, वहीं से शुरू किया pakoda bhandar।

आगरा। आजादी के दीवाने सरदार भगत सिंह ने आगरा के नूरी दरवाजा स्थित जिस मकान में रहकर बम बनाया था, उसी मकान के एक हिस्से में अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्टार्टअप योजना पकोड़ा से प्रभावित होकर चार बेरोजगारों ने मोदी पकौड़ा भंडार खोला है।

ये भी पढ़ें - पति को मुठभेड़ में मारने की धमकी देकर यूपी पुलिस के दरोगा करते रहे महिला के साथ बलात्कार, गर्भवती होने पर...

यहां रहे थे भगत सिंह
अंग्रेजी हुकूमत को हिलाने के लिए क्रांतिकारियों द्वारा आगरा के नूरी दरवाजा क्षेत्र के एक मकान में रहकर बम बनाया गया था। यहां सरदार भगत सिंह के अलावा अन्य क्रांतिकारी लगभग एक माह तक रुके थे। इस मकान की मौजूदा समय में हालत बेहद खराब है। इसके संरक्षण के दावे कई हुए, लेकिन कुछ भी हो ना सका। लेकिन अब इस मकान के एक हिस्से में मोदी पकौड़ा भंडार शुरू किया गया है।

ये भी पढ़ें - श्रावण मास में जानिये मौसम का हाल, पहले दिन झमाझम हुई बारिश

शुरू किया पकौड़ा भंडार
प्रधानमंत्री के मन की बात पर चाहे विपक्ष कितना भी बवाल मचाये, लेकिन आगरा के चार बेरोजगारों नेइसे अमल में लाकर अपनी जिंदगी बदलने की ठान ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सुझाव था कि पकौड़े तलकर भी रोजगार हासिल किया जा सकता है। इसी बात को आगरा के बेरोजगारों ने चैलेन्ज के तौर पर लिया और पकौड़े बनाने का काम शुरू कर दिया है। सालिगराम गर्ग ने अपने तीन बेरोजगार दोस्तों के साथ मिलकर मोदी पकोड़ा भंडार के नाम से पकौड़ा सेन्टर खोला है। इनके द्वारा खोला गया मोदी पकौड़ा सेंटर दो दिन में ही क्षेत्र में काफी फेमस हो गया। मोदी नाम लिखा पकौड़ा सबसे ज्यादा फेमस हो रहा है।

ये भी पढ़ें - VIDEO: अस्पतालों का बाजार, यहां ठेके पर होता है इलाज, लील चुका है कई जिंदगी

बेरोजगारी से जूझ रहे थे ये दोस्त
वहीं दुकान का नाम मोदी पकौड़ा भंडार रखे जाने के बारे में बताया गया कि मोदी जी की पकौड़ा व्यवसाय की योजना से प्रेरित होकर काम शुरू किया गया है। सालिगराम और उसके तीनों मित्र 50 वर्ष से ऊपर के हैं, जो लंबे समय से बेरोजगार थे। इस पकौड़ा व्यवसाय को शुरू करने के बाद चारों लोग संतुष्ट दिखाई दिए। वही इन चारों को आस पास के लोगो का भी सहयोग मिल रहा है सभी मोदी जी के स्टार्ट अप और इनकी कोशिश की सराहना करते हुये दिखाई दे रहे है ।

ये भी पढ़ें - Agra Breaking: दिनदहाड़े लाखों की लूट, महिला की हत्या का प्रयास, लोगों ने पीछा किया तो बक्से में छिप गया