स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

40 गांवों के लोग एक बार टोरंट के खिलाफ, सत्तासीन भाजपा के बारे में कही ये बात

Dhirendra yadav

Publish: Sep 23, 2019 10:03 AM | Updated: Sep 23, 2019 10:03 AM

Agra

-लोधी समाज का उत्पीड़न, दहतोरा में जल्द होगी महापंचायत
-भाजपा की मौन स्वीकृति, कल्याण सिंह को अवगत कराएंगे

आगरा। कलाल खेरिया गाँव में टोरेंट पॉवर बिना अनुमति व नियमों को ताक पर रख कर भूमिगत लाइन डाल रही है। जिसके विरोध में रविवार को ग्रामीण एकजुट हो गये। टोरेंट का काम कर रहे कर्मचारियों को ग्रामीणों ने काम नहीं करने दिया। इस पर टोरेंट के अधिकारियों ने गाँव वालों को धमकाना शुरू कर दिया, जिससे गाँव वालों में रोष फैल गया। मौके पर ग्रामीण विकास संघर्ष समिति के पदाधिकारी पहुँच गये।

पहले नहीं हुई सुनवाई
ग्रामीण विकास संघर्ष समिति के सहसंयोजक सतीश राजपूत ने कहा कि वर्ष 2010 से ही सभी ग्रामीण टोरेंट का विरोध कर रहे है। टोरेंट की जद में आए 40 से ज़्यादा गाँवों में से आधे से ज़्यादा लोधी समाज के है। इनमें दहतोरा, घोघई, चिचाना, अमरपुरा, कलाल खेरिया, मियापुर, चमरोली, तोरा, लकावली, लोहागढ़ आदि लोधी बाहुल्य गाँव है। जब टोरेंट का आगमन आगरा में हुआ तब बसपा सरकार थी। तब भी सभी गाँव वालों ने ख़ूब विरोध किया। लोधी समाज भाजपा का वोटर है इस लिए कहीं सुनवाई नही हुई। आज प्रदेश में भाजपा की सरकार है। सांसद व स्थानीय विधायक ने चुनाव में वादा किया था कि जनता को टोरेंट के उत्पीड़न से मुक्ति मिलेगी। फिर भी लोधी समाज के गाँव में टोरेंट के द्वारा लगातार उत्पीड़न किया जा रहा है।

r2.jpg

कल्याण सिंह से मिलेंगे
उन्होंने कहा कि बहुत जल्द लोधी समाज आगरा एक प्रतिनिधिमंडल पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह से मिलकर भाजपा सरकार में लोधी समाज पर हो रहे उत्पीड़न के बारे में बताएगा। अगर समाज को टोरेंट से मुक्ति नहीं मिली तो लोधी समाज भाजपा के ख़िलाफ़ आगामी विधानसभा चुनाव 2022 में खड़ा होने से भी नहीं चूकेगा।

जान दे देंगे, उत्पीड़न सहन नहीं
हरिकिशन लोधी ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र टोरेंट की जद में नहीं आता है। उसके बाद भी टोरेंट अधिकारियों की साँठ गाँठ से गाँव वालों का उत्पीड़न करने के लिए ज़बरदस्ती गाँव में अपने पैर पसार रही है। इसका विरोध ग्रामीणों ने किया तो उनसे अभद्रता की गयी। साथ ही फ़र्ज़ी मुक़दमे लगा कर जेल भिजवाने की धमकी दी गयी। गाँव वालों में आक्रोश फैल गया। उन्होंने कहा कि गाँव वाले जान दे देंगे, पर टोरेंट का उत्पीड़न किसी भी क़ीमत पर सहन नही करेंगे।

महापंचायत बुलाएंगे
हरिमोहन प्रधान ने कहा कि जब ग्रामीण वर्ष 2010 से ही गाँव को दक्षिणांचल से जोड़ने की माँग कर रहे है तो प्रशासन क्यूँ गाँव वालों के शोषण की अनुमति टोरेंट पॉवर को दे रहा है। टोरेंट की कार्य प्रणाली की वजह से ग्रामीणों में भय व्याप्त है। कभी भी क़ानून व्यवस्था बिगड़ सकती है। अगर एसा हुआ तो सारी ज़िम्मेदारी प्रशासन की होगी। अखिल भारतीय लोधी युवा महासभा के ज़िला महामंत्री विनोद प्रधान ने कहा कि बहुत जल्द दहतोरा में टोरेंट के ख़िलाफ़ लड़ाई को लोधी समाज की महापंचायत बुलाई जाएगी। प्रमुख रूप से बंटी लोधी,मुकेश राजपूत, धर्मेंद्र राजपूत, लालसिंह लोधी, यशपाल राजपूत, भूरा लोधी, विनोद राजपूत, शिव सिंह लोधी, प्रेम सिंह, नंद किशोर लोधी, कोमल सिंह लोधी, राहुल लोधी, बबलू लोधी, भूरी सिंह राजपूत, गंगा सिंह, वीरेन्द्र राजपूत आदि उपस्थित रहे।