स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अंतरराष्ट्रीय ताज रंग महोत्सव का आज दूसरा दिन, जानिए पूरा कार्यक्रम

Dhirendra yadav

Publish: Sep 23, 2019 09:21 AM | Updated: Sep 23, 2019 09:21 AM

Agra

-नृत्य, नाटक व संगीत प्रतियोगिता एवं प्रस्तुतियां होंगी
-काव्य श्रृंगार के साथ सप्त ऋषि व कलासाधक सम्मान

आगरा। अंतरराष्ट्रीय ताज रंग महोत्सव का आज 23 सितम्बर, 2019 को दूसरा दिन है। दूसरे दिन नाटक के साथ-साथ कवियों को भी मंच प्रदान किया जाएगा। महोत्सव का उद्घाटन 22 सितम्बर को भारतीय जनता पार्टी बृज क्षेत्र के संगठन मंत्री भवानी सिंह, महंत योगेशपुरी, होली पब्लिक स्कूल के निदेशक संजय तोमर, नटरांजलि आर्ट थियेटर की निदेशक अलका सिंह, शांतिदूत बंटी ग्रोवर आदि ने किया था। महोत्सव 26 सितम्बर, 2019 तक चलेगा।

International Taj drama

आज के कार्यक्रम
होली पब्लिक स्कूल, सिकन्दरा में महोत्सव चल रहा है। 23 सितम्बर को पूर्वाह्न 11 बजे से नाटक, नृत्य व संगीत प्रतियोगिता होगी। शानदार प्रस्तुतियां होने वाली हैं। दूसरा सत्र दो बजे से शुरू होगा। इसमें काव्य श्रृंगार के तहत प्रतिष्ठित कवियों द्वारा प्रस्तुति दी जाएगी। समाज के कार्यों में समर्पित 7 व्यक्तित्व को 'सप्त-ऋषि सम्मान' प्रदान किया जाएगा। इसके साथ ही नृत्य, नाटक व संगीत प्रतियोगिता एवं प्रस्तुतियां होती रहेंगी। तृतीय सत्र शाम छह बजे से होगा, जिसमें रंगारंग कार्यक्रम, नाटक मंचन व कलासाधक सम्मान होगा। मीडिया प्रभारी रितु गोयल, रोहित कत्याल और बंटी ग्रोवर ने शहरवासियों से आग्रह किया है कि तीनों कार्यक्रमों में आएं। देश-विदेश के आए कलाकारों का उत्साहवर्धन करें।

International Taj drama

22 राज्यों और 8 देशों के कलाकार
बता दें कि अंतरराष्ट्रीय ताज रंग महोत्सव में भारत के 22 राज्यों और 8 देशों के कलाकार आए हुए हैं। उनकी प्रस्तुयां मन मोह रही हैं। उद्घाटन समारोह में स्वागत् गान ग्वालियर से नव्या चौरसिया, वाणी पाठक, आर्या त्रिपाठी, नित्या पाठक ने सेमी क्लासिकल नृत्य प्रस्तुत किया। महिमा त्यागी, श्रेया चौधरी, प्रमोद चौधरी ने फ्रीस्टाइल डांस पर प्रस्तुति दी। जावेद अली ने अब खत भी नहीं आते पर गीत प्रस्तुत किया। मुंबई से आये रुद्र वर्मा ने जब 'करम खुदाया है तुझे मैंने बुलाया पर गाना शुरू किया तो दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। कोलकता से आईं शुक्ला दत्ता एवं साथी कलाकार की कथक नृत्य पर युगल प्रस्तुति से सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया।

नाटक में जीवंत प्रस्तुति
नाटक प्रतियोगिता का प्रथम नाटक मासूम आर्ट ग्रुप सैकत चट्टोपाध्याय के निर्देशन में 'आप कौन चीज के डायरेक्टर हैं जी' का मंचन हुआ, जिसके माध्यम से विभिन्न सामाजिक, राजनीतिक व पारिवारिक विसंगतिओं पर व्यंगात्मक प्रहार करते हुऐ वर्तमान समय की भ्रष्ट व लचर सिस्टम पर कुठाराघात किया। भारतीय अव्यावसायिक रंगमंच के जाने माने अभिनेता सैकत चट्टोपाध्याय के अभिनय ने उपस्थित दर्शकों को खड़े होकर ताली बजाने पर मजबूर कर दिया अरहत प्रोडक्शन, मुम्बई, महाराष्ट्र की धनंजय लक्षमन सावले के निर्देशन में नारी की पीर प्रस्तुत करता नाटक किया, जिसमें केरल की सच्ची घटना पर आधारित नंगेली के त्याग को दिखाया गया। नंगेली की भूमिका में रोहिनी ने सशक्त अभिनय किया। नंगेली ने स्तन ढकने पर टैक्स न देने के बदले अपने स्तन ही काट कर राजा के सिपाही को भेंट कर दिये। केरल की डेढ़ सौ वर्ष पुरानी ऐतिहासिक घटना को मंच पर कलाकारों ने साकार कर दिया। प्राचीन समय में जातिवाद की जड़ें बहुत गहरी थीं और राजा त्रावणकोर के अनुसार निचली जातियों की महिलाओं को उनके स्तन न ढकने का आदेश था। उल्लंघन करने पर उन्हें 'स्तन कर' देना होता था। ऐसी जीवंत प्रस्तुति देखकर दर्शकों की आँखों से आँसू छलक गये।

निर्णायक
कार्यक्रम का संचालन श्रुति सिन्हा व गगन गौतम ने किया। सभी व्यवस्थाओं में रितु गोयल, लालाराम तैनगुरिया, रोहित कात्याल, अमित कौरा, आशीष लवानियां, ममता पचौरी, राजकमल जैसवाल, राजकुमारी पराशर, पारुल भारद्वाज, परवेज़ कबीर, मीरा शर्मा, मिथलेश, बीनू वर्मा, अंजलि स्वरूप, डॉ वीना कौशक आदि शामिल रहे। निर्णायक मंडल में डॉ. वंदना यादव, धनन्जय जी, केशव प्रसाद सिंह रहे। द्वितीय सत्र में यमुना हाथी घाट पर अतिथि देवो भव की परम्परा पर सभी आगंतुक कलाकारों का स्वागत व सम्मान अश्विनी कुमार मिश्र, और जनकपुरी के पदाधिकारियों व राजा जनक ने किया।