स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अंतरराष्ट्रीय मंच पर आगरा की प्रतिभाओं का सम्मान, देखें वीडियो

Dhirendra yadav

Publish: Sep 22, 2019 20:59 PM | Updated: Sep 22, 2019 20:59 PM

Agra

-अपनी सेवाओं से समाज को रोशन कर रही शख्सियतों को मिला सम्मान
-महिला सशक्तिकरण का उदाहरण बनीं अलका सिंह की हर ओर चर्चा

आगरा। यूपी के शहर आगरा में कई देशों व भारत के 22 राज्यों के करीब 300 कलाकार एक मंच पर प्रदर्शन के लिए आ चुके हैं। चतुर्थ अंतरराष्ट्रीय ताज रंग महोत्सव के मंच पर अन्तरराष्ट्रीय कलाकारों के बीच आगरा की प्रतिभाओं को भी प्रदर्शन करने का मौका मिलेगा। नटरांजलि थिएटर की ओर से इस महोत्सव में उद्घाटन के दौरान अलग-अलग क्षेत्र में अपनी सेवाओं से समाज को रोशन कर रही शख्सियतों को सम्मानित किया गया।

आगरा को रोशन कर रहीं ये शख्सियत
यूं तो आगरा में समाज के लिए कुछ कर गुजरने की क्षमता रखने वालों का लम्बा चौड़ा इतिहास रहा है, लेकिन आज के समय की बात की जाय बिना किसी स्वार्थ के परमार्थ करने वालों की संख्या को अंगुलियों पर गिना जा सकता है। महिलाओं को सशक्त बनाने में जुटी राज्य महिला आयोग की सदस्य निर्मला दीक्षित, महाकवि गोपालदास नीरज की पुत्रवधु डॉ. वत्सला प्रभाकर, सहित गिने हुए चेहरे हैं जो समाज को अपनी प्रतिदिन की सेवा से रोशन कर रहे हैं।

अन्तरराष्ट्रीय मंच पर मिला सम्मान
अन्तरराष्ट्रीय कलाकारों के बीच आगरा की जो शख्सियत सम्मानित हुई वह किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं। वास्तविक सेवा भाव की परख करते हुए नटरांजलि थिएटर की ओर से चयन कर इन्हें सम्मानित किया गया। नटरांजलि ने संस्कार भारती नाट्य केन्द्र से केशव प्रसाद सिंह, नाट्य पितामह स्वर्गीय राजेन्द्र रघुवंशी के पुत्र दिलीप रघुवंशी, मुंबई से आए प्रमोद, सर्वज्ञ शेखर गुप्त, शांति दूत बंटी ग्रोवर, अलका सिंह, कांग्रेस नेता गोपाल गुरु, नेमीचंद वाष्णेय आदि को सम्मानित किया। भाजपा के संगठन मंत्री भवानी सिंह, होली पब्लिक स्कूल के निदेशक संजय तोमर और महंत योगेश पुरी ने सम्मानित किया।

सशक्त नारी का उदाहरण बनी अलका सिंह
इस मौके पर संचालन करते हुए श्रुति सिन्हा ने कहा कि इस अन्तरराष्ट्रीय मंच को सजाने वाली एक सामान्य परिवार में जन्मी आगरा की बेटी अल्का सिंह की चारों ओर चर्चा है। बीते चार सालों से कला और संस्कृति की इस पुजारिन ने मोहब्बत के शहर आगरा में अन्तरराष्ट्रीय मंच बिना किसी सरकारी सहायता के सजाकर एक सशक्त नारी का उदाहरण पेश किया है। यही नहीं अपने शहर की समाज को रोशन करने वाली धुरी की पहचान कर सम्मानित कराना भी एक सशक्त महिला का प्रमाण है। जिसने प्रतिभाओं को मंच देने के साथ ही समाज के पुरोधाओं की पहचान की है।