स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आलू ने पिछले वर्ष किया कई किसानों को बर्बाद, इसके बाद भी आलू करने वाले किसानों की संख्या में हुई बढ़ोत्तरी, जानिये कारण

Dhirendra yadav

Publish: Oct 21, 2019 14:44 PM | Updated: Oct 21, 2019 14:44 PM

Agra

पिछले वर्ष आलू की फसल में घाटा मिलने के बाद भी आलू की फसल के किसान बढ़ रहे हैं।

आगरा। पिछले वर्ष आलू की फसल में घाटा मिलने के बाद भी आलू की फसल के किसान बढ़ रहे हैं। पिछली बार से ज्यादा किसान अपने खेतों में आलू की फसल की बुआई कर रहे हैं। इसे लेकर पत्रिका टीम ने सोमवार को खेत में पहुंचकर आलू के किसानों से बात की। जानिए पत्रिका टीम से क्या बोले किसान?

ये भी पढ़ें - ज्योतिषाचार्य ने की बड़ी भविष्यवाणी: 2019 के समाप्त होते ही बदलेगी ग्रहों की चाल, भारत और पीएम मोदी के लिए वर्ष 2020...

बुआई के लिए खेत बनना हुआ शुरू
विकास खंड अछनेरा के गांव महुअर निवासी किसान राजन सिंह ने पत्रिका टीम से बात करते हुए बताया कि आलू की फसल की बुआई के लिए खेत बनना शुरू हो गया। 5 से 7 दिन के अंदर खेत में आलू की फसल की बुआई होना शुरू हो जाएगा। उन्होंने बताया है कि पिछली बार आलू की पैदावार कम हुई थी। आलू का भाव भी सही नहीं मिला था। जिसके कारण गत वर्ष आलू की फसल में लाखों रुपए का घाटा चला गया। राजन ने बताया है कि इस बार आलू की पैदावर अच्छी होनी चाहिए। इसके अलावा भाव भी सही मिलना चाहिए। जिससे पिछली वर्ष का घाटा भी निकल आए।

ये भी पढ़ें - यूपी पुलिस की वर्दी का एक दिसंबर के बाद बदलेगा रंग, नीले रंग का मैसेज हुआ वायरल

घाटा मिलने के बाद भी बढ़े आलू के किसान
गांव महुअर के किसान नोहबत सिंह कुशवाह ने बताया है कि कोल्ड स्टोर से आलू का बीज निकलना शुरू हो गया है। किसानों ने आलू की बुआई के लिए अपने खेत तैयार कर लिए हैं। जिन किसानों ने अपने खेत में बाजरा की फसल की थी। वह भी आलू की फसल के लिए अपने खेत तैयार कर रहे हैं। इस बार पिछले साल के मुकाबले आलू के किसानों में बढोत्तरी हुई है, जबकि गत वर्ष आलू किसानों को सही भाव नहीं मिलने की वजह से घाटा चला गया था। उन्होंने बताया है कि आलू के किसान बढ़ने के कारण इस बार भी आलू के भाव की कोई गारन्टी नहीं है।

ये भी पढ़ें - कमलेश तिवारी की हत्या के बाद, राष्ट्रीय बजरंग दल के अध्यक्ष ने बताया जान को खतरा, प्रशासन से की सुरक्षा की मांग


देरी से आयेगा आलू
इस बार मानूसन देरी तक रहा, जिसके कारण आलू की बुआई में किसान को देरी हो गई है। अभी तक आलू की फसल में पहली सिंचाई हो जानी चाहिए थी। इस बार देरी होने से आलू भी मार्केट में देरी से आयेगा।

इनपुट: देवेश शर्मा